शिक्षामित्रों और अनुदेशकों को योगी सरकार का तोहफाः वेतन के लिए नहीं करना होगा इंतजार

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ
उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग में कार्यरत संविदाकर्मी या सेवादेने वाले कर्मियों के लिए अच्छी खबर है। उत्तर प्रदेश सरकार ने बेसिक शिक्षा विभाग में कार्यरत ऐसे सभी कर्मियों के वेतन भुगतान का समय निर्धारित कर दिया है। अब इन्हे वेतन के लिए भटकना नहीं पड़ेगा, उन्हें तय समय पर वेतन दिया जाएगा। महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन ने इस आशय का आदेश भी जारी कर दिया है। इस आदेश के बाद प्रदेश के तकरीबन दो लाख कर्मचारियों को समय से वेतन का भुगतान कर दिया जाएगा।
बता दें राज्य स्तर से मानदेय बजट समय से भेजने के बाद भी ऐसे कर्मचारियों को समय से वेतन नहीं मिल पाता था। लेकिन इस आदेश के बाद शिक्षा विभाग में कार्यरत संविदाकर्मियों या सेवा प्रदान करने वाले कर्मचारियों को समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा।
महानिदेशक स्कूल शिक्षा के अनुसार हर मार की एक से तीन तारीख तक खण्ड शिक्षा अधिकारी, प्रधानाध्यापक से उपस्थिति प्राप्त कर शिक्षामित्र और अनुदेशक का मानदेय बिल गूगल शीट पर तैयार करेंगे और इसे आधिकारिक रूप से चार-पांच तारीख के बीच परियोजना कार्यालय को उपलब्ध कराएंगे।
इसके बाद जिला समन्वयक भेजे गए बिलों का परिक्षण करेंगे फिर इसे बेसिक शिक्षा अधिकारी और सहायक वित्त व लेखाधिकारी के सामने माह की पांच तारीख को रखेंगे और बिल को पीएफएमएस पोर्टल पर अपलोड कर बैंक में हस्तांतरण के लिए 7-10 तारीख तक भेज दिया जाएगा।
सरकार के इस आदेश पर आदर्स शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन ने खुशी जताई है। एसोसिएशन के अध्यक्ष जितेन्द्र शाही ने खुशी जताते हुए कहा, सरकार ने शिक्षामित्रों की मानदेय की समस्या का समाधान कर बड़ा काम किया है। हमे उम्मीद है कि सरकार हमारी समस्याओं का समाधान भी इसी तरह करती रहेगी।