दुनिया का सबसे बड़ा ‘मोटेरा स्टेडियम’ अब से ‘नरेन्द्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम’ , खूबियां जानकर हो जाएंगे हैरान

अहमदाबाद में बने दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम मोटेरा का बुधवार (24 फरवरी) को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उद्घाटन किया। इस स्टेडियम का नाम बदलकर नरेंद्र मोदी स्टेडियम रखा गया है। इसी स्टेडियम में भारत और इंग्लैंड के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज का तीसरा मुकाबला खेला जा रहा है। यह दुनिया का सबसे बड़ा और अत्याधुनिक क्रिकेट स्टेडियम है, जिसमें एक लाख 32 हजार दर्शक बैठ सकते हैं।
उद्घाटन के दौरान गृहमंत्री अमित शाह और खेलमंत्री किरेन रिजिजू समेत कई विशिष्ट लोग मौजूद रहे। करीब 63 एकड़ से अधिक परिसर में फैले इस स्टेडियम की दर्शक क्षमता एक लाख 32 हजार है और इस पर 800 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं।
इससे पहले मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड सबसे बड़ा स्टेडियम था जिसकी दर्शक क्षमता 90000 है। प्रेस सूचना ब्यूरो द्वारा जारी सूचना में कहा गया, ”यह ओलंपिक आकार के 32 फुटबॉल स्टेडियमों के बराबर का है।
इस मैदान को 2015 में नवीनीकरण के लिए बंद कर दिया गया था। यह क्रिकेट के इतिहास के कई गौरवशाली पलों का साक्षी रहा है। इसमें सुनील गावस्कर का 1987 में 10000 टेस्ट रन, कपिल देव का 432 टेस्ट विकेट लेकर 1994 में सर रिचर्ड हेडली का रिकॉर्ड शामिल है।
एमसीजी की डिजाइन बनाने वाले ऑस्ट्रेलियाई आर्किटेक्ट फर्म पोपुलस समेत कई विशेषज्ञ इसके निर्माण में शामिल थे।
खेल मंत्री ने उद्घाटन के मौके पर कहा, ”हम बचपन में भारत में सबसे बड़े स्टेडियम का सपना देखते थे और अब बतौर खेलमंत्री इसे पूरा होते देखकर मेरी खुशी का ठिकाना नहीं है।
पिछले कुछ दिनों से यहां अभ्यास कर रहे भारत और इंग्लैंड के खिलाड़ियों ने भी इस मैदान की जमकर प्रशंसा की है। यह ऐसा अकेला क्रिकेट स्टेडियम है जिसमें चार ड्रेसिंग रूम है। इसके अलावा क्रिकेट अकादमी, इंडोर अभ्यास पिचें और दो अलग अभ्यास मैदान हैं।
ये स्टेडियम कितना बड़ा है। इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि एक बल्लेबाज को ड्रेसिंग रूम से मैदान तक पहुंचने के पहले 80 सीढ़ियां उतरनी पड़ती हैं।
काफी लंबा चलने के बाद वो पिच पर पहुंचता है। 800 करोड़ की लागत से बने इस स्टेडियम में दो प्रैक्टिस ग्राउंड हैं। जिसमें कुल 9 पिच हैं। इसके अलावा मैदान लाल और काली मिट्टी से तैयार की गई अलग-अलग 11 पिच हैं।
आउटफील्ड में ऑस्ट्रेलिया से मंगाई गई बरमूडा घास लगाई गई है। स्टेडियम के क्लब हाउस में 55 कमरे हैं। इसके अलावा थ्री डी मिनी थिएटर है। एक ओलिंपिक साइज का स्वीमिंग पूल, स्टीम और सॉना बाथ का इंतजाम भी किया है।
इसके अलावा इंडोर स्पोर्ट्स के लिए स्क्वॉश कोर्ट भी बनाया गया है। खिलाड़ियों के लिए खास 4 ड्रेसिंग रूम तैयार किए गए हैं। जो सीधे जिम से जुड़े हैं। एक साथ चार ड्रेसिंग रूम वाला यह दुनिया का पहला स्टेडियम है। स्टेडियम में 76 एसी कॉरपोरेट बॉक्स भी हैं।
इस स्टेडियम की एक सबसे बड़ी खासियत यह है कि इस डिजाइन पिलर लैस है। मतलब इसके निर्माण में खंभों का इस्तेमाल नहीं किया गया है। इसी वजह से स्टेडियम के किसी भी हिस्से में बैठकर दर्शक मैच का पूरा मजा ले सकते हैं।
पुराने स्टेडियम की फ्लड लाइट टावर की जगह नए बने स्टेडियम में एलईडी लाइट्स लगाई गई हैं, जिसकी परछाई नहीं रहती। मैदान का ड्रेनेज सिस्टम भी वर्ल्ड क्लास है। इसी वजह से बारिश के बाद आधे घंटे के भीतर स्टेडियम को मैच के लिए तैयार किया जा सकता है। स्टेडियम में 3 हजार कारों और 10 हजार टू व्हीलर की पार्किंग के लिए जगह है।