उत्तर प्रदेश इस वजह से हो जाएगा मालामाल, इस जिले में मिला सोने का भंडार

तो क्या उत्तर प्रदेश आने वाले दिनों में मालामाल हो जाएगा। राज्य खनिज विभाग ने जो दावा किया है अगर वह सही साबित होता है तो इसमे कोई दो राय नहीं कि उत्तर प्रदेश मालामाल हो जाएगा। 15 सालों से जिस इलाके में जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम काम कर रही थी वहां उसे ऐसा खजाना हाथ लगा है जिसके दम पर दावा किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश आने वाले दिनों में मालामाल हो जाएगा।
उत्तर प्रदेश का वह जिला जहां मिला सोने का भंडार
दरअसल उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में 3 हजार टन सोना मिला है। यह सोना जमीन के अंदर दबा हुआ है। जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम ने 8 साल पहले ही जमीन के अंदर सोना दबे होने की पुष्टि की थी। अब यूपी सरकार इस सोने को बेचने के लिए ई निलामी प्रक्रिया शुरु कर दी है।
जीएसआई ने 8 साल पहले की कर दी थी पुष्टि
गौरतलब है कि वर्ष 2005 से जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम सोने की तलाश करने का काम कर रही थी। टीम ने 15 साल के गहन परीक्षण के बाद इस बात का दावा किया और बताया कि सोनभद्र में सोने का भंडार दबा है। हालांकि टीम ने वर्ष 2012 में भी इस बात की पुष्टि कर दी थी। जीएसआई के अनुसार हरदी क्षेत्र में 646.45 किग्रा सोने का भंडार है जबकि सोन पहाड़ी में 2943.25 किग्रा सोने का भंडार मौजूद है।
सरकार ने शुरु की ई-टेंडरिंग की प्रक्रिया
जीएसआई के दावे के बाद अब उत्तर प्रदेश सरकार ने सक्रियता दिखाई है। सरकार ने सोने के ब्लॉक के आवंटन के लिए प्रक्रिया शुरु कर दिए हैं। सरकार ने ई-टेंडरिंग के माध्यम से ब्लॉकों के नीलामी के लिए शासन ने सात सदस्यीय टीम भी गठित कर दी है। यह टीम पूरे क्षेत्र की जिओ टैगिंग करेगी और 22 फरवरी, 2020 तक अपनी रिपोर्ट भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशालय लखनऊ को सौंप देगी।
सोने के अलावा ये भी मिले हैं, यूरेनियम की संभावना
इसके अलावा सोनभद्र की खनिज विभाग की टीम ने इस बात का भी दिवा किया है कि यहां पर न सिर्फ सोने का अपार भंडार मिला है बल्कि सोनभद्र के फुलवार क्षेत्र में दो स्थानों पर एडालुसाइट, पटवध क्षेत्र में पोटाश, भरहरी में लौह अयस्क और छपिा ब्लॉक में सिलीमैनाइट के भी भंडार मिले हैं। खनिक अधिकारी केके राय के मुताबिक सोनभद्र जिले में यूरेनियम के भी भंडार होने की संभावना है जिसकी तलाश की जा रही है।