यूपीः धार्मिक स्थल व तीर्थ क्षेत्रों में मांस-मदिरा की बिक्री पर रोक

चौरासी कोस के अंदर सभी मांस-मदिरा की दुकाने बंद कराने की मांग

कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर मथुरा पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धार्मिक स्थलों और तीर्थ क्षेत्रों से मांस, मदिरा की बिक्री पर रोक लगाने तथा उन्हें हटाने का निर्देश जारी किया है। सीएम योगी ने प्रशासन को इसे तत्काल अमल में लाने के भी निर्देश दिए। सीएम योगी के इस आदेश का अयोध्या के संतों ने स्वागत किया है।
अयोध्या में मांस-मदिरा की बिक्री रोकने के लिए राष्ट्रपति को लिखा था पत्र
दरअसल संत समाज अयोध्या में काफी लंबे समय से इस बात की मांग रहा था। अयोध्या में तपस्वी पीठ के महंत जगत गुरु परमहंस आचार्य ने कई दिनों तक आमरण अनशन कर राष्ट्रपति को पत्र भेजा था। अयोध्या के सांस्कृतिक सीमा से शराब और मांस की दुकानें हटाई जाए परमहंस के मांग पत्र पर राष्ट्रपति ने जिले के आला अधिकारियों को निर्देशित एक पत्र भेजा था जिसके बाद 5 कोसी परिक्रमा मार्ग से शराब और मांस की दुकानों को बाहर किया गया था।
सीएम की घोषणा का संत समाज ने किया स्वागत
हालांकि प्रशासन द्वारा अयोध्या में प्रवेश द्वार से मांस और मदिरा की दुकानों को हटा दिया गया है लेकिन अब संतो ने मांग की है कि अयोध्या सीमा के अंदर से ही शराब और मांस की दुकानें हटाई जाएं। सीएम योगी की घोषणा के बाद अयोध्या के संत उतसाहित हैं और संतों ने मुख्यमंत्री की इस घोषणा का स्वागत किया है।
संत समाज की वर्षों से थी ये मांग
हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास- मुख्यमंत्री को साधुवाद, कई वर्षों से संत समाज ने मांग की थी। राम नगरी के पंचकोशी परिक्रमा मार्ग के अंदर जो भी शराब और मछली और मांस की दुकानें हैं उसको दूर किया जाए। मुख्यमंत्री ने इस विषय पर चिंतन किया, प्रशासन से कहा है कि शराब और मांस की बिक्री तीर्थ क्षेत्र में चल रही है और कैसे उसको रोका जाए इस पर योजना रचना तैयार करें।
जिलों का नाम बदलने से नहीं संस्कार बदलें लोग
जगत गुरु परमहंस आचार्य ने कहा कि यह जिलों के नाम बदलने से कुछ नहीं होगा योगी जी की मौजूदगी में यदि धार्मिक क्षेत्रों में अंडा और मांस बिक रहा है, उस पर रोक लगाई जानी चाहिए, जिससे कि संस्कार बदले। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सबसे महत्वपूर्ण फैसला रहा और हम साधु संत धर्माचार्य इसका स्वागत करते हैं।
चौरासी कोस के अंदर सभी मांस-मदिरा की दुकाने बंद कराने की मांग
सभी धार्मिक स्थलों की सांस्कृतिक सीमा चौरासी कोस है और सभी चौरासी कोस के अंदर तीर्थ क्षेत्रों से मांस मदिरा की दुकानें हटाई जानी चाहिए। सबसे ज्यादा तीर्थ क्षेत्र उत्तर प्रदेश में है। इसमें अयोध्या मथुरा काशी चित्रकूट प्रयागराज नेमी सारण है योगी जी की इस पहल से भारतीय संस्कृत पर जो कुठाराघात होता रहा है उस पर लगाम लगेगी और भारतीय संस्कृति पुनः प्रतिष्ठित होगी।