‘रामलला के वास्ते खाली कर दो रास्ते’ के नारे के साथ हजारों हिन्दू भक्त करेंगे अनशनः तोगड़िया

बाराबंकी । आगामी 21 अक्टूबर को लखनऊ के रमाबाई अंबेडकर मैदान से हजारों की संख्या में रामलला के हिंदू भक्त ‘रामलला के वास्ते खाली कर दो रास्ते’ के नारे के साथ बाराबंकी होते हुए अयोध्या पहुंचेंगे।

अयोध्या में  रामलला के मंदिर निर्माण के लिए 48 घंटे का अनशन किया जाएगा। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संसद में अयोध्या मंदिर के निर्माण के लिए कानून बनाने की याद दिलाई जाएगी। अयोध्या स्थित रामलला मंदिर में अनशन की योजना  अंतर्राष्ट्रीय हिंदू परिषद और बजरंग दल ने मिलकर बनाई है। यह जानकारी मंगलवार को बाराबंकी में अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने पत्रकार वार्ता के दौरान दी।

इस दौरान प्रवीण तोगड़िया ने भाजपा पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि संसद में रामलला मंदिर का कानून बनाने की मांग तो पूर्व में भाजपा की ही थी। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हों या फिर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सभी ने राम मंदिर पर संसद में कानून बनाने की वकालत की थी, लेकिन अब कोई साथ नहीं दे रहा है। जब सत्ता में आए तो वे रामलला को भूलकर अब राम भक्तों पर ही अत्याचार कर रहे हैं। ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय हिंदू परिषद और बजरंग दल हिंदू भक्तों के साथ राममंदिर निर्माण का कानून संसद में बनाने के लिए अनशन करने को तैयार है।

राम भक्त कौन और दिल्ली भक्त कौन

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भी उन्होंने 2014 के चुनाव से पहले संकल्प पत्र की याद दिलाई । उन्होंने कहा कि संकल्प पत्र में राम मंदिर निर्माण को तरजीह दी गई थी, लेकिन अब भुला दिया गया है। अगर वाकई भाजपा अध्यक्ष राम भक्त हैं तो मंदिर निर्माण की दिशा में कदम बढ़ाएं, नहीं तो यह पता चलेगा कि असली राम भक्त कौन है और दिल्ली भक्त कौन।

गुजरात में उत्तर भारतीयों की रक्षा करें सरकार 

गुजरात में हो रहे उत्तर भारतीयों पर अत्याचार पर प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि सरकार का यह दायित्व है कि वह उत्तर भारतीयों की रक्षा करे। उत्तर भारतीयों का गुजरात से पलायन रोका जाए। पूरा भारत सभी का है ऐसे में गुजरात में उत्तर भारतीयों के साथ अन्याय नहीं होना चाहिए। अभी मैं बाराबंकी में हूं तो यह नहीं बता सकता हूं कि गुजरात में क्या हो रहा है, लेकिन सरकार से अपील जरूर है कि सभी के साथ न्याय करे।