गजब है यूपी पुलिस की थ्योरीः कोतवाली में रखी 2400 पेटी शराब चूहों को पिला दिया…

ये उत्तर प्रदेश पुलिस है जनाब, थ्योरी गढ़ने में इनका कोई जवाब नहीं। किसे सूली पर चढ़ाना है, किसे फंसाना है या फिर अपराधी को लेकर चल रही गाड़ी का दुर्घटनाग्रस्त हो जाना इनके लिए खेल है। किस तरह से सुर्खियों में छाए रहना है इस हुनर के उस्ताद हैं।
एक और मामला सामने आया है, एटा पुलिस ने ऐसी थ्योरी गढ़ी है जिससे सभी चौंके हुए हैं। कह रहे हैं एटा पुलिस थाने के चूहों से सावधान रहें। ये शराब पीते हैं, इनका एक दो बोतल से जी नहीं भरता ये तो 2400 बोतल शराब पी डालते हैं। आइए जानते हैं दरअसल मामला क्या है…
दरअसल यूपी के एटा जिले के पुलिस थाने में कई सौ बोतल जब्त की गई शराब रखी थी। जांच में इसमें से 2400 बोतल शराब कम पाई गई।
इसके बाद एटा पुलिस का श्याह चेहरा सामने आया। पुलिस ने अपनी जनरल डायरी में 2400 बोतल शराब चूहों द्वारा पीना बता दिया।
डीएम डॉ विभा चहल ने 11 मार्च को एटा के कोतवाली देहात पर भारी पुलिस बल के साथ छापेमारी की थी। इस छापेमारी के दौरान शराब की 2400 बोतलें कम मिलीं। डीएम ने इसकी कीमत 30 लाख रुपए बताई।
इस कार्रवाई के बाद इंस्पेक्टर इंद्रेश पाल भदौरिया और उनके मुंशी रसाल सिंह को तत्काल निलंबित कर दिया गया। जांच अलीगढ़ क्राइम ब्रांच को सौंपी गई।
इसके अलावा इंद्रेश पाल भदौरिया का एक और कारनाम सामने आया। जिसमें उन्होंने एक ढाबे पर ढाबा मालिक से खाने के पैसे मांगने पर फर्जी मुठभेड़ दिखाते हुए करीब एक दर्जन लोगों को अवैध शराब और गांजा का केस लगाकर जेल भेज दिया था।
उस मामले में भी उच्चाधिकारियों की निर्देश पर इंद्रेश पाल सिंह भदोरिया और उनके अन्य पुलिसकर्मियों को पकड़ने के लिए पुलिस लगातार दबिश दे रही है। लेकिन अभी तक पुलिस अपने इंस्पेक्टर और कुछ कर्मियों को नहीं पकड़ पाई है।
पुलिस का कहना है कि मामले की जांच चल रही है, जांच पूरी होने के बाद जो भी दोषी पाया जाएगी उस पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।