सचिवालय के सामने मौलाना ने पढ़ी नमाज, PM मोदी और CM योगी को कहे अपशब्द

लखनऊ। लखनऊ में मुख्यमंत्री सचिवालय के सामने एक अजीबो-गरीब दृश्य देखने को मिला। यहां सचिवालय के सामने हरी पगड़ी लगाए एक शख्स अपनी स्कूटी से आकर रुका। इसके बाद इस शख्स ने भीड़भाड़ के बीच सचिवालय के गेट नंबर 1 के सामने पहले मोदी और योगी के खिलाफ अपशब्द कहे और फिर वहीं पर नमाज पढ़ी।

पुलिस मामले में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सचिवालय से गुजरते लोगों की निगाहें उस वक्त ठहर गईं जब उन्होंने इस सिरफिर मौलाना को नमाज पढ़ते हुए देखा। लोगों के लिए ये काफी चौंकाने वाला वाकया था।

एक शख्स को शाम को बीच सड़क पर नमाज पढ़ते देख लोगों ने अपनी गाड़ियां रोक दी और जब वह नमाज पढ़कर अपनी गाड़ी लेकर भागा तब लोगों ने अपनी गाड़ियां बढ़ाई। इस घटना के वक्त मुख्यमंत्री सचिवालय में अधिकारियों की बैठक ले रहे थे। सबसे ज्यादा चौंकाने वाली बात ये है कि नमाज पढ़ने वाला मौलाना अपने साथ चाकू भी रखा था, वह कमर में चाकू लगाए ये शख्स सड़क जाम कर नमाज पढ़ता रहा और पुलिस ने उसे रोका तक नहीं।

पुलिस का रवैया देख लोगों ने इस हरकत की वीडियो बनाई और सोशल मीडिया पर जारी कर दी। कुछ ही देर में यह वीडियो वायरल हो गया और इसकी सूचना मिलते ही पुलिस अधिकारी सकते में आ गए। सीओ हजरतगंज अभय कुमार मिश्रा मौके पर पहुंचे लेकिन तब तक आरोपी जा चुका था।

बाद में पुलिस के अधिकारी हरकत में आए और देर रात में मौलाना रफीक को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में पुलिस के उच्च अधिकारियों ने लापरवाही को देखते हुए दो पुलिसवालों को निलंबित कर दिया है।मौलाना रफीक का कहना है कि उसकी बेटी एक लड़के के साथ गायब हो गई थी उसकी सूचना उसने पुलिस को दी थी जिस पर नहीं हो रही थी। इसीलिए वह सिर्फ सीएम योगी को अवगत कराना चाहता था।

उसके परिवार वालों का कहना है कि इनकी दिमाग की हालत ठीक नहीं है जिसके चलते यह ऐसी हरकतें करते हैं और हर जगह नमाज पढ़ते रहते हैं। इसलिए इनको माफ कर दें और उनको छोड़ दे ।लड़की ने अपनी मर्जी से लड़के के साथ शादी की है।