सुकमाः नक्सलियों ने घात लगाकर दिया हमला, DRG के 12 और STF के पांच जवान शहीद

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में सुरक्षा बलों और नक्सलियों की मुठभेड़ में शनिवार को 17 जवान शहीद हो गए हैं। जवानों के शव रविवार को मिल सके। अब राज्य सरकार ने शहीद जवानों के नामों की सूची जारी कर दी है। शहीद जवानों में DRG (District reserve force ) के 12 और STF (Special task force) के 5 जवान हैं। मुठभेड़ के बाद से ये जवान लापता थे, जिनका शव सुरक्षा बलों को रविवार को घने जंगलों में बरामद हुआ। बाद में शहीदों के शवों को कैंप लाया गया।
ये जवान हुए शहीद
राज्य सरकार द्वारा जारी सूची के मुताबिक डीआरजी के 12 और एसटीएफ के 5 जवान शहीद हुए हैं। डीआरजी के हेमन्त दास मानिकपुरी, गंधम रमेश, लिबरु राम बघेल, सोयम रमेश, उइके कमलेश, पोडियम मुत्ता, धुरवा उइका, वंजाम नागेश, मड़कम्म मासा, मड़कम्म हिड़मा, नितेंद्र बंजामी सुकमा के रहने वाले थे। जबकि पोडियम लखमा बीजापुर के निवासी थे। हमले में 17 जवानों में एसटीएफ के 5 जवान गीतराम राठिया, रायगढ़, नारद निषाद- बालोद, हेमंत पोया- कांकेर, अमरजीत खलको- जशपुर और मड़कम्म बुच्चा सुकमा के रहन वाले थे।
मुठभेड़ के बाद जंगल में पड़े शहीद के जुते। फोटो- सत्यनारायण चांडक।सुकमा के कसालपाड़ और मिनपा में सीआरपीएफ, एसटीएफ और डीआरजी (डिस्ट्रिक्ट रिजर्व फोर्स) के करीब 550 जवान सर्चिंग के लिए निकले थे। जवानों को नक्सलियों के छत्तीसगढ़ के सक्रिय टॉप लीडर हिड़मा, नागेश और अन्य द्वारा कैंप लगाने का इनपुट मिला था। जवान सर्चिंग से लौट रहे थे।
इसी दौरान नक्सलियों ने एंबुश लगाकर जवानों को फंसा लिया था। जवानों और नक्सलियों के बीच करीब साढ़े 3 घंटे तक मुठभेड़ चली। इसके बाद जवान अलग-अलग समूह में कैंप वापस लौटे। इनमें से 17 जवान लापता थे। इनकी शहादत हुई है। इसके अलावा 15 जवान घायल हैं, जिनका इलाज रायपुर के रामकृष्ण केयर अस्पताल में चल रहा है। इनमें से 2 की हालत गंभीर है।
सीएम भूपेश बघेल ने बुलाई बैठक
छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के सुकमा (Sukma) में नक्सलियों (Naxalite) ने बीते 15 महीने में हिंसा की सबसे बड़ी वारदात (Crime) को अंजाम दिया है। नक्सलियों ने सुरक्षा बल के 17 जवानों की हत्या कर दी है। जवानों के शव बरामद होने के बाद सीएम भूपेश बघेल ने आपात बैठक बुलाई है। पुलिस की रणनीति और आगे की कारवाई को लेकर बैठक में चर्चा हो रही है। छत्तीसगढ़ गृह विभाग के मुखिया सुब्रत साहू भी बैठक में मौजूद हैं। खुफिया विभाग के अधिकारियों को भी तलब किया गया है। पुलिस मुख्यालय के अधिकारियों की मौजूदगी में सीएम भूपेश बैठक ले रहे हैं। बताया जा रहा है कि बैठक में मुख्यमंत्री ने नाराजगी जताई है।