जवान की मां ने कहा ‘ भगवान का धन्यवाद’, पत्नी बोलीं- मुझे भरोसा था पति जरुर आएंगे…

तीन अप्रैल, छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ में 22 जवान शहीद हो गए। देश स्तब्ध था इस घटना से। 200 से ज्यादा नक्सलियों ने घात लगाकर सुरक्षा बलों पर हमला किया और 22 जवानों को मार डाला। सरकारी बयानों में 15 से ज्याद नक्सलियों के मारे जाने की भी बात कही गई थी। नक्सलियों से लोहा लेने निकली सुरक्षा बलों की टीम का एक जवान लापता हो गया था। उसे नक्सलियों ने पकड़ लिया था। आज गुरुवार को रिहा कर दिया। नक्सलियों ने जिस जवान को रिहा किया उसका नाम राकेश्वर सिंह मनहास है।
राकेश्वर सिंह की रिहाई की खबर से उनके परिवार में खुशी का माहौल है, गांव वाले भी उनकी खुशी शरीक हैं। इस बीच राकेश्वर सिंह मनहास की मां कुंती देवी का बयान सामने आया। उन्होंने कहा, हम बहुत ज्यादा खुश हैं। उन्होने कहा, जो हमारे बेटे को छोड़ रहे हैं उनका भी धन्यवाद करती हूं और भगवान का भी धन्यवाद करती हूं।
उन्होंने कहा जब सरकार के वार्ता हो रही थी तो मुझे थोड़ा भरोसा था परन्तु विश्वास नहीं हो रहा था। बता दें राकेश्वर सिंह के नक्सलियों के पास होने की खबर के बाद उन्होंने भारत सरकार से अपील की थी कि जिस प्रकार पाकिस्तान के चंगुल से कैप्टन अभिनंदन को रिहा कराया था उसी प्रकार हमारे बेटे को भी नक्सलियों के चंगुल से मुक्त कराएं।
अपने पति राकेश्वर सिंह मनहास की नक्सलियों के चंगुल से रिहाई को लेकर पत्नी की खुशी की ठिकाना नहीं है। उन्होने कहा, मैं भगवान का,केन्द्र सरकार का, मीडिया और सेना का धन्यवाद करती हूं। आज मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा खुशी का दिन है, इसे मैं जिंदगी भर भुला नहीं पाऊंगी।
पति की रिहाई से भावुक पत्नी मीनू मनहास ने मै हमेशा उनकी वापसी के लिए भागवान से प्रार्थना कर रही थी। उनकी वापसी के लिए मैं सरकार का धन्यवाद करती हूं। उन्होंने कहा कि राकेश्वर सिंह की वापसी की उन्होंने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी थी। उन्हें पूरा भरोसा था कि उनके पति जरूर वापस आएंगे।