शाहीन बागः दूसरे दिन भी वार्ता का नहीं निकला कोई हल, नतीजे पर पहुंचने की कोशिश जारी रहेगी

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन को किसी अन्य जगह शिफ्ट करने को लेकर गुरुवार को SC द्वारा नियुक्त वार्ताकार प्रदर्शनकारियों के मध्य पहुंचे थे। उन्होंने लोगों को बताया कि वह SC के आदेशों के अनुपालन में आपसे वार्ता करने आए है। प्रदर्शनकारियों ने उनका स्वागत किया और कहा कि हम आपसे वार्ता को तैयार हैं। लेकिन बुधवार को वार्ताकारों और प्रदर्शनकारियों के मध्य हुई बातचीत का कोई नतीजी नहीं निकल पाया। वार्ताकारों ने कहा कोशिश रविवार तक जारी रहेगी। साधना रामचंद्रन ने कहा, आगे भी बातचीत का सिलसिला जारी रखा जाएगा।
मीडिया के सामने और तीसरे वार्ताकार को बुलाने पर अड़े प्रदर्शनकारी
इससे पहले वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन ने शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों से बातचीत की। हेगड़े ने कहा कि, ‘हम आपकी बात सुनने आए हैं। मध्यस्थ मीडिया के सामने बातचीत नहीं करेंगे। मध्यस्थों ने मीडिया को धरना स्थल से हटा दिया है। वहीं प्रदर्शनकारी, मीडिया के सामने बातचीत करना चाहते हैं। प्रदर्शनकारियों ने तीसरे मध्यस्थ वजाहत हबीबुल्लाह को बुलाने की मांग की है।
आंदोलन आपका हक लेकिन दूसरों का हक न छीना जाए
साधना रामचंद्रन ने कहा कि, ‘सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि, आंदोलन आपका हक है, सुप्रीम कोर्ट में कानून को चुनौती दी गई है। हम सबकी तरह और भी नागरिक हैं जिनके हक हैं, बहुत से लोग ये रोड इस्तेमाल करते हैं। दुकानदार, डॉक्टर, बच्चे स्कूल जाएं। सुप्रीम कोर्ट कहता है कि, ‘आंदोलन करना आपका हक है, लेकिन दूसरे का हक़ ना छीना जाए।
आपकी अच्छी-बुरी सब बात सुनी जाएगी
सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि, सबका हक़ बरकरार रहना चाहिए। हमें सुप्रीम कोर्ट ने भेजा है, आपको बताने के लिए, आपके साथ मिलकर हल निकालने के लिए, हम, आप सबकी बात सुनना चाहते हैं। आपकीं हर बात सुनेंगे। अच्छी-बुरी सब बात।