राजनाथ सिंह चीन को चेतावनीः कोई महाशक्ति हमारे आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाया तो हमारे सैनिक देंगे मुंहतोड़ जवाब

भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर कोई महाशक्ति हमारे आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाना चाहती है तो हमारे सैनिक मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं। इस दौरान राजनाथ सिंह ने साफ किया कि भारत किसी के साथ विवाद नहीं चाहता है। उन्होंने कहा हम शांति, दोस्ती का समझौता चाहते हैं, क्योंकि ये हमारे खून मे हैं। राजनाथ सिंह गुरुवार को आर्म्ड फोर्स वेटरन डे के मौके पर बेंगलुरू में ये बाते कहीं।
इस दौरान उन्होने बीते बुधवार को मंजूरी पाने वाले रक्षा सौदे का भी जिक्र किया। उन्होंने 83 तेजस विमानों की इस डील से देश में 50 हजार से ज्यादा नौकरियां तैयार होंगी। इस दौरान उन्होंने पूर्व सैनिकों के लिए कई घोषणाएं कीं। उन्होंने कहा देशके पूर्व सैनिक देश के लोगों में देश के प्रति प्रेरणा पैदा करते हैं।
राजनाथ सिंह ने कहा, हमने HAL से 83 स्वदेसी एलसीए तेजस लड़ाकू विमानों के अधिग्रहण की मंजूरी दे दी है। सरकार ने इसे नौकरियों में फायदा पहुंचाने वाला बताया है। उन्होंने कहा इससे 50 हजार से ज्यादा नौकरियां तैयार होंगी। उन्होंने बताया कि पीएम मोदी के नेतृत्व वाली कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी ने इस डील पर मुहर लगा दी है।
कार्यक्रम के दौरान राजनाथ सिंह ने पूर्व सैनिकों कों लेकर भी बातें कहीं। उन्होंने कहा जो एक बार सैनिक बन गया वह हमेशा के लिए सैनिक हो गया। उनसे देस के लोगों को प्रेरणा मिलती है, पूर्व सैनिक समाज में बड़ी भूमिक निभाते हैं। इस दौरान उन्होंने पूर्व सैनिकों के लिए कई घोषणाएं भी कीं। उन्होंने कहा, ‘हमने लोकल फॉर्मेशन कमांडर्स को निजी अस्पतालों को ECH योजना की पैनल में शामिल करने के लिए अधिकृत किया है।
तेजस विमानों के आयात पर भारतीय वायु सेना के प्रमुख आरके भदौरिया ने बताया- भारतीय लड़ाकू विमान तेजस चीन और पाकिस्तान के संयुक्त JF-17 फाइटर विमानों से ज्यादा आधुनिक और बेहतर हैं। 83 विमानों का आयात बड़ा है, इस तरह के ऑर्डर 8-9 सालों में आकार लेता है तो पूरा इको सिस्टम तैयार होता है। भदौरिया के अनुसार, मिलिट्री एविएशन के लिए यह बड़ा कदम है।