नोटिस पर प्रियंका का जवाब- इंदिरा गांधी की पोती हूं, सच्चाई जनता के सामने रखती रहूंगी

Last Updated : by

22 Views
कानपुर के राजकीय बालिका संरक्षण गृह में लड़कियों के संक्रमित होने और उनके गर्भवती पाए जाने को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी फेसबुक पोस्ट विवाद का कारण बनता जा रहा है। मामला जितना संवेदनशील है उतना ही सियासी हो गया है। प्रियंका गांधी के पोस्ट पर अब कमिशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स ने कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। नोटिस जारी होने के बाद प्रियंका गांधी ने प्रदेश की योगी सरकार पर हमला बोला है।
प्रियंका गांधी ने ट्वीट पर कहा, जनता के सेवक के रूप में मेरा कर्तव्य यूपी की जनता के प्रति है, और वह कर्तव्य सच्चाई को उनके सामने रखने का है। किसी सरकारी प्रॉपगैंडा को आगे रखना नहीं है। यूपी सरकार अपने अन्य विभागों द्वारा मुझे फिज़ूल की धमकियां देकर अपना समय व्यर्थ कर रही है। जो भी कार्यवाई करना चाहते हैं, बेशक करें। मैं सच्चाई सामने रखती रहूंगी। मैं इंदिरा गांधी की पोती हूं, कुछ विपक्ष के नेताओं की तरह भाजपा की अघोषित प्रवक्ता नहीं।
इस मामले को लेकर उपजे विवाद के बीच प्रदेश सरकार ने राजकीय बालिका संरक्षण गृह के प्रोबेशन अधिकारी को निलंबित कर दिया। सरकार का मानना है कि अजीत कुमार अपने कर्तव्यों के निर्वहन में असफल रहे और सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही गलत सूचना का मुकाबला सही तौर पर करने में सक्षम नहीं रहे।
गौरतलब है कि प्रदेश के कानपुर राजकीय बालिका संरक्षण गृह में 7 युवतियों के गर्भवती पाए जाने और 57 के कोरोना संक्रमित होने का मामला सामने आया था। इस मामले पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने उत्‍तर प्रदेश के मुख्य सचिव और डीजीपी को नोटिस भेजा था। आयोग ने सूबे के मुख्य सचिव और डीजीपी से इस मामले में जवाब मांगा गया था।