पश्चिम बंगाल में सियासी हिंसा – तृणमूल समर्थकों ने भाजपा के 7 समर्थकों के घरों में लगाई आग

पश्चिम बंगाल में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच छत्तीस का आंकड़ा है। बीते विधानसभा चुनाव से शुरु हुआ ये खेल अब तक जारी है। इस बीच पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी जिले से भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के बीच हिंसक झड़प की खबरें सामने आ रही हैं। यहां पर भाजपा के सात समर्थकों के घरों मे तोड़फोड़ के बाद आग लगा दी गई है। सूचना पर पहुंची दमकल की गाड़ियों ने आग पर काबू पा लिया है। तनाव को देखते हिए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।
शव गांव पहुंचने के बाद भड़की हिंसा
दरअसल तृणमूल कांग्रेस के नेता मलिक हाटबूथ के अध्यक्ष भोमबोले घोष पर 14 फरवरी को हुस्लूरदंगा बाजार में धारदार हथियार से हमला कर दिया गया था। उन्हें गंभीर अवस्था में सिलीगुड़ी के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां पर शनिवार को उनकी मौत हो गई। रविवार को उनका पार्थिव शरीर उनके गांव हुस्लूरदंगा पहुंचा। बस यहीं से विवाद की शुरुआत हो गई।
तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा पर लगाया आरोप
तृणणूल कांग्रेस के स्थानीय नेता मनोज रॉय ने आरोप लगाया था कि घटना के पीछे भाजपा कार्यकर्ताों का हाथ है। भाजपा जिला अध्यक्ष बापी गोस्वामी ने दावा किया कि घोष का शव रविवार को जब गांव पहुंचा तो तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता उत्तेजित हो गए। उन्होंने भाजपा के सात समर्थकों के घरों में तोड़फोड़ की फिर उन्हें आग के हवाले कर दिया। पुलिस ने गांव में तनाव को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी है।