पतंजलि की कोरोनिलः आयुष मंत्री ने कहा, कुछ नियम-कायदे भी होते हैं, ऐसे ही दवा निकाल दी…

Last Updated : by

19 Views
पतंजलि द्वारा कोरोना वायरस की दवा (Coronil) बनाने के दावों के बीच आयुष मंत्रालय ने उनके द्वारा विज्ञापन किये जाने पर रोक लगा दी है और जानकारी मांगी है। आयुष मंत्री श्रीपद नाईक ने कहा कि बाबा रामदेव को दवा का ऐलान मंत्रालय से अनुमति लिए बिना नहीं करना चाहिए था। हमने जवाब मांगा है और पूरे मामले पर टास्क फोर्स भेजी गई है। जो जानकारी मांगी गई थी उस पर जवाब पतंजलि की ओर से दिया गया है।
नाईक ने कहा, ‘पतंजलि द्वारा दिये गये जवाब और मामले को टास्क फोर्स रिव्यू करेगा कि उन्होंने कौन सा फॉर्मूला अपनाया है। इसके बाद ही परमिशन दी जाएगी। प्रोटोकॉल के अनुसार दवा बाजार में लाने के लिए मंत्रालय से अनुमति लेनी थी जो नहीं ली गई।’ उन्होंने कहा, ‘अनुमति नहीं लेना हमारी आपत्ति है। अगर कोई बाजार में दवा लेकर आता है। बनाता है तो यह खुशी की बात है। इस पर कोई ऐतराज नहीं है। मंत्रालय भी अपनी दवा पर काम कर रहा है जो जुलाई महीने तक आ सकती है।’
समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार नाईक ने कहा, ‘यह अच्छी बात है कि बाबा रामदेव ने देश को एक नई दवा दी है लेकिन नियम के अनुसार उन्हें पहले आयुष मंत्रालय के पास आना चाहिए था।’
बता दें बाबा रामदेव और उनके सहयोगी आचार्य बालकृष्ण द्वारा एक प्रेस वार्ता के कुछ घंटे बाद आयुष मंत्रालय की ओर से एक बयान जारी कर कहा गया कि दवा से जुड़े वैज्ञानिक अध्ययन के दावे के तथ्यों और विवरण के बारे में मंत्रालय को कोई जानकारी नहीं है।
मंत्रालय ने कहा था, ‘पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड से उन दवाओं के नाम और संयोजन, स्थानों/ अस्पताल जहां कोविड-19 के लिए शोध कराया गया, प्रोटोकॉल, नमूना आकार, संस्थागत आचार समिति की मंजूरी, सीटीआरआई पंजीकरण और शोध के नतीजे के विवरण उपलब्ध कराने तथा इस मसले की विधिवत जांच पूरी होने तक ऐसे दावों के विज्ञापन/प्रचार को बंद करने के लिए कहा गया है।
मंत्रालय ने उत्तराखंड सरकार के संबंधित राज्य लाइसेंसिंग प्राधिकरण से भी लाइसेंस की प्रतियां और आयुर्वेदिक दवाओं की उत्पाद स्वीकृति का विवरण उपलब्ध कराने के लिए कहा है, जिसके कोविड-19 के उपचार में कारगर होने का दावा किया जा रहा है।