पर्रिकर की बीमारी से संकट में गोवा सरकार, नाराज सहयोगी ने दिया पार्टी से इस्तीफा

न्यूज डेस्क–गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर रविवार दोपहर को नई दिल्ली से अपने गृहराज्य लौट आए. नई दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में अग्नाश्य संबंधी बीमारी को लेकर उनका इलाज चल रहा था. एक तरफ उनकी तबीयत ठीक नहीं है तो दूसरी तरफ सरकार पर भी संकट गहराता जा रहा है.

पर्रिकर एक विशेष विमान से यहां पहुंचे, फिर उन्हें एम्बुलेंस से डोना पॉला में उनके निजी निवास पर ले जाया गया. पर्रिकर को 15 सितंबर को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था. उनकी तबीयत के कारण राज्य में कामकाज पर पड़ते हुए असर को देखते हुए विपक्ष का हमला लगातार तेज हो रहा है.

कमेटी संभाल रही है राज्य की कमान:

पर्रिकर ने यह सुनिश्चित करने के लिए शुक्रवार को पार्टी की गोवा इकाई की कोर समिति के सदस्यों और गठबंधन के सहयोगी दलों के मंत्रियों के साथ एम्स में बैठक की थी कि खराब स्वास्थ्य के कारण उनकी अनुपस्थिति के दौरान सरकार सामान्य रुप से चलती रहे.

पर्रिकर से अलग-अलग भेंट करने वाले सत्तारुढ़ भाजपा और उसके सहयोगी दलों के नेताओं ने इस तटीय राज्य में नेतृत्व परिवर्तन से इनकार किया था. कोर समिति गोवा में पार्टी की अहम निर्णायक समिति है जिसमें पर्रिकर, नाईक, प्रदेश अध्यक्ष विनय तेंदुलकर आदि हैं.

बढ़ रही सरकार की मुश्किल:

गोवा फॉरवर्ड के उपाध्यक्ष ट्राजनो डिमेलो ने राज्य में मछली माफिया का खुला समर्थन करने के लिए भाजपा नेतृत्व वाली सरकार पर आरोप लगाते हुए पार्टी से इस्तीफा दे दिया. डिमेलो ने यह कहते हुए रविवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया कि सरकार मछली माफियाओं का समर्थन कर रही है, जो मछलियों को संरक्षित करने के लिए फॉर्मलिन का इस्तेमाल करते हैं और राज्य में उन मछलियों को बेचते हैं.