बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद कानपुर जू के सभी पक्षियों का मारने के आदेश

कानपुर चिड़ियाघर में रहने वाले सभी पक्षियों को मार डालने का आदेश
देशभर में तेजी से फैल रहे बर्ड फ्लू का सबसे ज्यादा कहर कानपुर जू में रहे पक्षियों पर पड़ने वाला है। रविवार शाम तक यहां रह रहे सभी पक्षियों को मार डालने का आदेश जारी किया गया है। प्रशासन ने कानपूर जू के एक किलोमीटर दायरे को कन्टेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। इसके अलावा जू के 10 किसी दायरे में मांस बिक्रि पर रोक लगा दी गई है।
गौरतलब है कि बर्ज फ्लू की पुष्टि होने के बाद कानपुर जू को 15 दनों के लिए बंद कर दिया गया था। लेकिन तेजी से बढ़ते मामले को देखते हुए अब इसे अनिश्चित काल के लिए बंद कर दिया गया है। जू के सभी पक्षियों को मारने की तैयारी की जा रही है, स्वास्थ्य विभाग की टीम फिलहाल मौके का जायजा ले रही है।
जानकारी के अनुसार सबसे पहले जू की मुर्गियों और तोतों को मारा जाएगा फिर बत्तख व अन्य पक्षियों को मारने की तैयारी है। अधिकारियों के मुताबिक जिन पक्षियों को इतने दुलार के साथ रखा गया गया था उन्हें मारना बेहद दुखद है, लेकिन उन्हें मारना पड़ रहा है। उन्होने बताया कि रविवार शाम तक सभी पक्षियों को मार डालने के निर्देश हैं।
बता दें कि 4 दिन पहले कानपुर चिड़ियाघर में चार जंगली मुर्गियों और चार हीरामन तोतों की मौत हो गई थी। यह सभी पिंजरे में बंद पक्षी थे। इन्हीं में से मृत मुर्गियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। इसके अलावा सोनभद्र, बाराबंकी, अयोध्या और झांसी में कौवे मृत पाए गए थे।
जिस तरह से राज्य दर राज्य बर्ड फ्लू अपने पैर पसार रहा है, उसे देखते हुए पहले ही यूपी सरकार ने बचाव के दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। चिड़ियाघरों में मांसाहारी जानवरों के खाने के लिए लाई जाने वाली मुर्गियों को प्रतिबंधित कर दिया गया है।