नीति आयोग की बैठक में बोले पीएम मोदीः अभी तक जो हमने किया 10 साल पहले करते तो गूगल जैसी कंपनियां भारत में होतीं…

नीति आयोग परिषद की छठीं बैठक को संबोधित करते पीएम नरेन्द्र मोदी
पीएम मोदी ने कहा, सहकारी संघवाद जिलों तक पहुंचे, ये कोरोना काल में सफल रहा, आत्मनिर्भर भारत पर जोर देते हुए कहा, जो हमने अभी तक किया है अगर वह 10 साल पहले कर पाते तो हो सकता है गूगल जैसी कंपनियां भारत में होतीं। इसका कारण है, गूगल को ऊंचाईयों तक पहुंचाने वाली प्रतिभाएं भारतीय हैं लेकिन उत्पाद हमारा नहीं है…
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नीति आयोग के संचालन परिषद की छठीं बैठक की अध्यक्षता करते हुए कई अहम बातों पर जोर दिया। बैठक के दौरान उन्होंने केन्द्र और राज्यों को मिलकर काम करने पर जोर दिया तो आत्मनिर्भर भारत के सपनों को साकार करने का फार्मूला भी बताया। उन्होंने कहा कोरोना काल के दौरान केन्द्र और राज्यों ने मिलकर कोरोना महामारी का सामना किया और सफल हुए। इसके अलावा उन्होंने भारतीय प्रतिभाओं की तारीफ करते हुए कहा, गूगल जैसी संस्थाओं में भारतीय प्रतिभा है लेकिन उत्पाद हमारा नहीं। इसलिए हमें इस दिशा में नई सोच के साथ आगे बढ़ना होगा।
नीति आयोग के बैठक के दौरान पीएम मोदी ने कहा, सहकारी संघवाद की बदौलत हमने कोरोना जैसी महामारी को परास्त किया है। हालांकि अभी पूर्ण विजय बाकी है लेकिन केन्द्र और राज्यों के तालमेल से यह उपलब्धि हमने हासिल की है। इसलिए हमें सहकारी संघवाद को और अधिक सार्थक बनाना है।
उन्होंने कहा, हम प्रयत्न पूर्वक प्रतिस्पर्धात्मक सहकारी संघवाद को नकेवल राज्यों के बीच बल्कि इसे जिलों तक ले जाना चाहते हैं। विकास की स्पर्धा निरंतर चलती रहनी चाहिए। पीएम ने कहा, इस वर्ष बजट पर जिस तरह का सकारात्मक जवाब आया है उन्होंने जता दिया कि देश का मूड क्या है। देश मन बना चुका है, देश तेजी से आगे बढ़ना चाहता है,देश समय गंवाना नहीं चाहता है।
अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने आत्मनिर्भर भारत पर जोर देते हुए कहा, जो हमने अभी तक किया है अगर वह 10 साल पहले कर पाते तो हो सकता है गूगल जैसी कंपनियां भारत में होतीं। इसका कारण है, गूगल को ऊंचाईयों तक पहुंचाने वाली प्रतिभाएं भारतीय हैं लेकिन उत्पाद हमारा नहीं है।
पीएम मोदी ने कहा, भारत जैसे युवा देश की आकांक्षाओं को ध्यान नें रखकर आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण करना होगा। उन्होंने कहा, नवाचार को बढ़ावा देना होगा, तकनीकी का ज्यादा इस्तेमाल करना होगा। आत्मनिर्भर भारत जैसे अभियान ऐसे भारत का निर्माण है जो न केवल अपनी जरुरतों के लिए बल्कि वैश्विक जरुरतों को ध्यान में रखकर भी उत्पाद करना चाहिए। ये सभी उत्पाद श्रेष्ठता की कसौटा पर खरा उतरना चाहिए।
पीएम मोदी ने कहा, हाल ही में अन्य सेवा प्रदाता नियमों से सुधार से युवाओं को काम करने की आजादी मिली है। इससे हमारे प्रौद्योगिकी क्षेत्र को काफी फायदा हुआ है। हमे ऐसी बंदिशों को खत्म करना होगा, नियमों में बदलाव करने होंगे। इन नियमों में बदलाव से हमारे स्टार्टअप और तकनीकी क्षेत्र को मदद मिली है। उम्मीद है कि ये आम आदमी के जीवन को भी आसान बनाएंगे।
पीएम मोदी ने कहा, वर्ष 2014 से, ग्रामीण और शहरी भारत में 2.4 करोड़ से अधिक घर बनाए गए हैं। एक और पहल चल रही है जिसमें भारत में छह राज्यों में आधुनिक तकनीक से मकान बनाए जा रहे हैं। कुछ महीनों में, इस मॉडल द्वारा नए मॉडल के साथ मजबूत घर बनाए जाएंगे।
पीएम मोदी ने कहा कि कैसे देश का प्राइवेट सेक्टर, देश की इस विकास यात्रा में और ज्यादा उत्साह से आगे आ रहा है। सरकार के नाते हमें इस उत्साह का, प्राइवेट सेक्टर की ऊर्जा का सम्मान भी करना है और उसे आत्मनिर्भर भारत अभियान में उतना ही अवसर भी देना है।