सांसद आजम खान को बड़ी झटका, जौहर विश्वविद्यालय पर चला बुलडोजर

उत्तर प्रदेश के रामपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद आज़म खान के नाम नायाब रिकॉर्ड दर्ज है। आज़म खान पर पुलिस ने अब तक 78 मुकदमे दर्ज है जिनमें से 29 में अग्रिम जमानत खारिज हो चुकी है। आज़म देश के पहले सांसद बन गए हैं जिनके खिलाफ इतनी संख्या में मुकदमे दर्ज हैं। अधिकांश मुकदमे उनके हाल ही में सांसद बनने के बाद दर्ज हुए हैं। अब रामपुर से एक और बड़ी खबर सामने आई है। रामपुर में आजम खान के मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय पर जिसा प्रशासन ने बुलडोजर चलवा दिया है।
जौहर विश्वविद्यालय की दीवार पर चला बुलडोजर
जानकारी के अनुसार जौहर विश्वविद्यालय में चकरोड की जमीन का ये मामला है। जिला प्रशासन चकरोड की जमीन पर बनी दीवार पर बुलडोजर चलवा कर उसे तोड़ दिया है। इस कार्रवाई में कहीं कोई अनहोनी न हो जाए इसे देखते हुए प्रशासन ने बड़ी संख्या पुलिस बल की तैनाती की है।
इससे पहले दो भवन हुए थे सीज
इससे पहले जनवरी में जिला प्रशासन ने जौहर विश्वविद्यालय से जमीन वापस लेने की कार्रवाई शुरु की थी। इसी क्रम में जनवरी में पैमाइश हुई और जौहर विश्वविद्यालय के दो भवन सीज किए गए। दरअसल आजम खान पर श्रम विभाग का 1 करोड़ 37 लाख रुपये सेस का बकाया था। जमा न करने पर श्रम विभाग ने आरसी जारी थी। भवन की कीमत का अनुमान लगाकर जौहर यूनिवर्सिटी के दो भवन सीज कर दिए गए।
विश्वविद्यालय के कब्जे से दलितों की 104 बीघा जमीन वापस होगी
बता दें कि पिछले दिनों जौहर विश्वविद्यालय के लिए दलितों की जमीन नियम विरुद्ध खरीदने में फंसे एसपी सांसद और यूनिविर्सिटी के चांसलर मोहम्मद आजम खान को राजस्व परिषद से बड़ा झटका लगा था। राजस्व परिषद ने पूर्व कमिश्नर के आदेश को खारिज करते हुए प्रदेश सरकार के पक्ष में फैसला सुनाया है। जिसके तहत जौहर ट्रस्ट की ओर से बनवाए गए इस विश्वविद्यालय के कब्जे से दलितों की 104 बीघा जमीन वापस होगी।