किसान संवादः विपक्ष पर बरसे पीएम मोदी, कहा- ये तब कहां थे जब किसानों की जमीनें हड़पी जा रही थीं

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की जयंती के अवसर पर आयोजित किसान संवाद के दौरान पीएम मोदी ने विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधा उन्होंने कहा जो दल आज किसानों को लेकर घड़ियाली आंसू बहा रहे हैं वो लोग तक कहां थे जब किसानों की जमीन हड़पी जा रही थी। पीएम ने पूछा जो लोग आज किसानों के नाम पर आंदोलन कर रहे हैं, उन्होनें स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट को लागूनहीं किया। पीएम ने कहा कि हमने स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट को निकाला और उसे लागू किया।
अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा, हमने लक्ष्य बनाकर काम किया है। हमने देश के किसानो का इनपुट कॉस्ट कम हो इस पर काम किया। सॉयल हेल्थ कार्ड, यूरिया की नीम कोटिंग, लाखों सोलर पंप की योजना इसलिए शुरु हुई। उन्होंने कहा, सरकार ने प्रयास किया कि किसाने के पास एक बेहतर फसल बीमा कवच हो, आज करोड़ों किसानों को फसल बीमा का लाभ मिल रहा है।
किसान संवाद के दौरान पीएम मोदी ने कहा, आज किसानों को गुमराह करने का बड़ा खेल चल रहा है। यह भ्रम फैलाया जा रहा है कि एमएसपी की व्यवस्था खत्म हो जाएगी, मंडियां खत्म हो जाएंगी। उन्होंने जोर देकर कहा, नया कृषि कानून कोई एक दो दिन की उपज नहीं यह 20-30 सालों के मंथन का नतीजा है, क्या आपने देश के किसी भी हिस्से में किसी मंडी के बंद होने की खबर सुनी है?
किसान संवाद के दौरान केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेद्र सिंह तोमर ने किसानों से आंदोलन खत्म करने की अपील की। उन्होंने कहा, पंजाब के किसान भ्रमित होकर नए कृषि कानून का विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा पीएम मोदी ने नेतृत्व में किसानों की भलाई क लिए सरकार ने कई ठोस कदम उठाए हैं, उन्हीं में से एक है किसान सम्मान निधि।