किसान आंदोलन को लेकर केजरीवाल ने कैप्टन पर लगाए गंभीर आरोप, जानिए क्या कहा…

किसान आंदोलन को लेकर दिल्ली के सीएम केजरीवाल और पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह आमनेृ-सामने
भारत सरकार के नए कृषि कानून को लेकर अब राजनीतिक दल एक दूसरे पर हमलावर हो रहे हैं। कांग्रेस, वाम दल, सपा व अन्य विपक्षी दल जहां किसानों के आंदोलन को समर्थन दे रहे हैं वहीं अब पंजाब कांग्रेस और आम आदमी पार्टी किसान आंदोलन को लेकर एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं।
बता दें किसान आंदोलन के 19 दिन किसान दिल्ली के सभी प्रवेश मार्गों पर 9 घंटे की भूख हड़ताल पर बैठे हैं। किसान आंदोलन के समर्थन में ‘आप’ नेता भी भूख हड़ताल में शामिल हैं। इन नेताओं में मनीष सिसौदिया, सत्येन्द्र जैन, गोपाल राय। इस बीच आप के अध्यक्ष और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह पर बड़ा आरोप लगाया है।
दरअसल किसान आंदोलन को लेकर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के रुख पर पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा था, कैप्टन ने केजरीवाल के उपवास को नाटक बताया है। उन्होंने केजरीवाल को चुनौती दी है कि वो अपनी सरकार का कोई एक कार्य बताएं जो किसानों के हित में उनकी सरकार ने किया हो।
कैप्टन ने आरोप लगाया कि पिछले 17 दिन से दिल्ली शहर के बाहर बैठे प्रदर्शनकारी किसानों की मदद के लिए कुछ भी रचनात्मक करने की बजाय केजरीवाल और उनकी पार्टी राजनीति करने में व्यस्त हैं।
सोमवार को केजरीवाल ने अमरिंदर सिंह को जवाब देते हुए बड़ा आरोप लगाया। उन्होंने कहा, कैप्टन ने अपने बेटे के प्रवर्तन निदेशालय का केस माफ करवाने के लिए केन्द्र से सेटिंग कर ली।
केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा- ‘कैप्टन जी, मैं शुरू से किसानों के साथ खड़ा हूं। दिल्ली के स्टेडियमों को जेल नहीं बनने दिया, केंद्र से लड़ा, मैं किसानों का सेवादार बनकर उनकी सेवा कर रहा हूं। आपने तो अपने बेटे के ED केस माफ करवाने के लिए केंद्र से सेटिंग कर ली, किसानों का आंदोलन बेच दिया? क्यों?
गौरतलब है कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल सोमवार शाम चार बजे आईटीओ स्थित पार्टी ऑफिस पहुंचेंगे फिर कार्यकर्ताओं के साथ उपवाश तोड़ेंगे और कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे।
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केजरीवाल पर हमला करते हुए कहा था-किसान आपके शहर के बाहर सड़कों पर ठंड का सामना कर रहे हैं। आप सोच रहे हैं कि उनकी इस स्थिति का कैसे राजनीतिक लाभ उठाया जाए, क्या आपको कोई शर्म नहीं है? उन्होंने कहा कि केजरीवाल अपनी पार्टी के चुनावी एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए झूठे प्रचार का सहारा ले रहे हैं।
कैप्टन अमरिंदर ने कहा, ‘केजरीवाल ने बार-बार यह साबित किया है कि वो किसानों के हमदर्द नहीं हैं। जब किसान कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए दिल्ली कूच करने की तैयारी कर रहे थे, तब 23 नवंबर को केजरीवाल सरकार बेशर्मी से इन काले कानूनों को अधिसूचित कर रही थी।
कैप्टन ने कहा कि कॉरपोरेट घरानों के टुकड़ों पर पनप रही केजरीवाल सरकार के उलट पंजाब सरकार ने न तो अडानी पावर के साथ कोई समझौता किया है और न ही राज्य में बिजली खरीद के लिए किसी के साथ बोली लगाई है।
बता दें कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बेटे रणिंदर सिंह को प्रवर्तन निदेशालय ने कथित अवैध विदेशी फंड मामले में समन भेजकर पेश होने को कहा है।
रणिंदर सिंह पर साल 2016 में भी विदेशी विनियमन प्रबंधन कानून (फेमा) के कथित उल्लंघन को लेकर बुलाया गया था। रणिंदर सिंह से उस समय फंड के स्विट्जरलैंड में फंड के मूवमेंट और ट्रस्ट बनाने से जुड़ी चीजों के बारे में पूछताछ की गई थी।