नौकरी के नाम पर बेरोजगार युवाओं को लगाया करोड़ों का चूना ,

लखनऊ । कृष्णानगर थाना क्षेत्र में रोजगार देने के नाम पर महीनों से फर्जी तरीके से संचालित हो रही एक निजी ट्रेडिंग कम्पनी ने हजारों युवक – युवतियों से रजिस्ट्रेशन के नाम पर करोड़ों रुपए ऐंठ लिए ।

कम्पनी में कार्यरत सैकड़ो कर्मचारियों ने शुक्रवार को बीते दो माह से वेतन न मिलने से नाराज होकर जमकर हंगामा करते हुए कम्पनी पर ठगी करने का आरोप लगाते हुए वीआईपी रोड जामकर प्रदर्शन करने लगे जिसकी सूचना स्थानीय लोगों ने पुलिस कंट्रोल रूम को दी । वहीं सूचना पाकर मौके पर पहुंची कण्ट्रोल रूम व पांच थानों की पुलिस ने अधिकारियों के निर्देश पर बल प्रयोग कर युवाओं को छितर – बितर किया और काम्प्लेक्स में स्थित ट्रेडिंग कम्पनी के ऑफिस को सील कर दिया।

दरअसल वीआईपी रोड पकरी पुल के पास स्थित फौजी कालोनी में रामलखन वर्मा के द्वारा निर्मित व्यवसायिक काम्प्लेक्स 570/94/7सी में किराए की मोटी रकम देकर पुलिस की मिली भगत से ओर्डेन ट्रेडिंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड नामक संचालित हो रही कम्पनी फर्जी तरीके से लाखों युवक व युवतियों को आकर्षक वेतन का लालच देकर रजिस्ट्रेशन के नाम पर करोड़ों रुपए ठग लिए । काम के नाम पर हजारों युवक – युवतियों से तीन सीफ्टों में नए लोगों को कम्पनी से जोड़ने का काम दिया जाता था ।

कम्पनी में कार्यरत युवाक -युवतियों को दो माह से वेतन न मिलने पर शुक्रवार सुबह लगभग 11 बजे कम्पनी में काम करने वाले सैकड़ो युवक-युवती सड़कों पर उतर आए और हंगामा करते वीआईपी रोड जाम करने लगे ।उत्तेजित युवाओं के हंगामे को देख कालोनी वासियों ने हंगामें की सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी ।

सूचना पाकर मौके पर पहुँची कंट्रोल रूम व स्थानीय थाने की पुलिस ने कम्पनी में मौजूद अधिकारियों व हंगामा कर रहे युवाओं से वार्ता कर मामले को रफ़ादफ़ा कर दिया । वही शाम लगभग 5 बजे आख़िरी शिफ्ट में काम करने आए सैकड़ो कर्मियों ने भी वेतन की मांग को लेकर हंगामा कर वीआईपी रोड जाम कर दिया । शाम को पुनः हंगामे की सूचना पाकर मौके पर पहुँची स्थानीय पुलिस ने कम्पनी के कर्मियों को समझाने का प्रयास किया लेकिन सफलता न मिलने पर अपने आला अधिकारियों  को मामले की जानकारी दी । अधिकारियों के निर्देश पर मौके पर पहुँची पांच थानों की पुलिस ने बल प्रयोग कर युवाओं को छितर – बितर किया और काम्प्लेक्स में स्थित ट्रेडिंग कम्पनी के ऑफिस को सील कर राजाजीपुरम निवासी प्रेम प्रकाश को हिरासत में लेकर पूँछटांछ कर रही है ।

फोन पर कॉल कर दूसरे बेरोजगारो को कम्पनी से जोड़ना पड़ता था :

हंगामा कर रहे कम्पनी के कर्मचारीयों ने बताया कि उन्हें कम्पनी की ब्राडिंग व मार्केटिंग के लिए कालिंग करने के लिए रखा गया और बेरोजगार युवकों को काल कर उनको कम्पनी में नौकरी देने की बात कह उनसे रजिस्ट्रेशन के नाम पर एक हजार रुपए लेकर उन्हें कम्पनी से जोड़ा जाता था । युवाओं को काल करने पर प्रतिदिन हजारो बेरोजगार युवक – युवतीयां नौकरी के लिए रजिस्ट्रेशन करवाती थी और फिर वह भी अपने इसी काम में लग जाते थे बदले में जिन्हें आकर्षक वेतन दिए जाने का आश्वासन मिलता था  ।

कम्पनी के सीईओ ने जानकारी देने से किया इंकार :

कम्पनी के सीईओं आशीष मौर्या से कम्पनी के कार्यो के बारे में जानकारी मांगे जाने पर कुछ भी जानकारी देने से साफ़ इंकार कर दिया । वहीं कृष्णानगर थाना प्रभारी यशकांत सिंह के बताया कि ट्रेडिंग कम्पनी के कर्मचारीयों ने वेतन न मिलने पर हंगामा किया था कम्पनी के अधिकारीयों के आश्वासन पर मामला शांत हो गया है । किसी की ताहरीर आने पर विधिक कार्यवाही की जाएगी।