गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, 31 मार्च तक राजस्थान लॉक डाउन

चीन के वुहान से निकले कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में हाहाकार मचा है। कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में दुनिया के 186 देश हैं, इससे मरने वालों की संख्या अब 12775 हो गई है। कोरोना के संक्रमण से सबसे ज्यादा 4825 मौतें इटली में हुई है। बीते 24 घंटे में 793 और लोगों दम तोड़ दिया है। इधर भारत में शनिवार देर रात तक कोरोना वायरस के संक्रमण के 321 मामले सामने आ चुके हैं, इनमें चार लोगों की मौत हो गई है। कोरोना के लगातार बढ़ते प्रकोप को देखते हुए पीएम मोदी ने रविवार को सुबह 7 बजे से रात्रि के 9 बजे तक जनका कर्फ्यू का ऐलान किया है। इस बीच राजस्थान से बड़ी खबर सामने आ रही है।
कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए सरकार ने उठाया बड़ा कदम
कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए राजस्थान सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने आवश्यक सेवाओं को छोड़कर 31 मार्च तक पूरा राजस्थान लॉक डाउन रहेगा। इस दौरान सरकारी दफ्तर, दुकानें और प्रतिष्ठान सभी बंद रहेंगे। केवल अस्पताल और आवश्यक सेवाएं ही चालू रहेंगी। राजस्थान की सीमाएं सील की जाएंगी।
31 मार्च तक पूरे प्रदेश में धारा 144 लागू
शनिवार रात को सीएम अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया है। रात 9 बजे इसकी आधिकारिक घोषणा कर दी गई। कोराना वायरस को लेकर लॉक डाउन होने वाला देश का पहला राज्य है। इसके अलावा सरकार ने प्रदेश में आगामी 31 मार्च तक धारा-144 भी लागू है। वहीं सभी स्कूल-कॉलेज और विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं स्थगित की जा चुकी हैं।
भीलवाड़ा में लगा कर्फ्यू
बता दें राजस्थान में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। शनिवार को प्रदेश में 6 नए मामले सामने आए हैं। राजस्थान में अबतक कोरोना के 23 मामले सामने आ चुके हैं। राजस्थान में पॉजिटिव पाए गए 3 मरीजों को ठीक किया जा चुका है। प्रदेश में अब तक 658 सैंपल जांच के लिए आये हैं। इनमें से 593 सैंपल की जांच रिपोर्ट नेगेटिव है। जबकि 42 सैंपल अभी अंडर प्रोसेस हैं। भीलवाड़ा में बड़ी संख्या में संदिग्ध मरीजों के मिलने के बाद वहां कर्फ्यू लगा दिया गया है।