किसान आंदोलनः SC की दखल के बीच नौवें दौर की वार्ता आज , सरकार को उम्मीद, टिकैत बोले, यह अंतिम वार्ता

केन्द्र सरकार के नए कानूनों के खिलाफ किसान 50 दिनों से आंदोलन कर रहे। इस दौरान सरकार और किसान संगठनों के बीच आठ दौर की वार्ता बे नतीजा खत्म हो गईं। इस बीत सुप्रीम कोर्ट ने सरकार और किसानों के बीच जारी गतिरोध को खत्म करने के लिए एक कमेटी का गठन कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट की दखल के बीच 15 जनवरी को किसान संगठनों और सरकार के मध्य नौवें दौर का वार्ता होनी है। केन्द्रीय कृषि मंत्री ने उम्मीद जताई है कि इस बात कुछ सकारात्मक नतीजे निकले हैं तो दूसरी तरफ किसान नेता राकेश टिकैत ने स्पष्ट कर दिया है कि यह सरकार और किसान संगठनों के मध्य अंतिम वार्ता है।
केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा है कि सरकार खुले मन से बैठक में शामिल होगी और किसानों की हर आशंका को दूर करन का प्रयास करेगी। किसान नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े हैं तो सरकार ने भी इस वापस न लेने की बात कह दी है। आठ दौर की वार्ता बेनतीजा होने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने 11 जनवरी को अहम फैसला सुनाया और चार सदस्यीस कमेटी गठित कर दी।
भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत न कहा आंदोनकारी किसान संघ सरकार के साथ निर्धारित नौवें दौर की वार्ता में शामिल होंगे। उन्होंने कहा गतिरोध को सुलझाने के लिए बातचीत जारी रखना आवश्यक है। उन्होंने कहा देखते हैं कल क्या होता है, उन्होंने कहा हमारी वार्ता सरकार से तबतक जारी रहेगी जबतक कोई नतीजा नहीं निकल जाता। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगर कल (नौवां दौर) की वार्ता में कोई समाधान नहीं निकलता है तो इसे अंतिम वार्ता ही समझा जा सकता है।