इटावाः व्यापारी से रिश्वत लेने वाला घूसखोर मंडी निरीक्षक निलंबित, मंडलायुक्त ने दिये जांच के आदेश

आखिर व्यापारी क्या करे, बिना रिश्वत खिलाए उसका काम नहीं चलता, मंडी के अंदर अपना उत्पाद बेचने के लिए उसे हर स्तर पर घूस खिलाना पड़ता है। मंडी के अधिकारी-कर्मचारी इसी मौके की ताक में रहते हैं, तड़ते रहते हैं कि कोई व्यापारी घूसे और उनकी जेबें गर्म हों। पैसे मांगते हुए ये बेशर्मी की सारी हदें पार कर जाते हैं। ऐसा ही एक वीडियो इटावा के सब्जी मंडी से वायरल हुआ है। जिसमें एक मंडी निरीक्षक एक सब्जी व्यापारी से घूस मांगते हुए बेशर्मी की सारी हदें पार कर दीं। इस दौरान व्यापारी ने उसका पैर तक पकड़ा।
मंडी निरीक्षक का वीडियो वायरल होने के प्रकरण को संज्ञान में लेते हुए कानपुर के मंडलायुक्त डॉ. राजशेखर ने मंडी निरीक्षक को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर मामले की जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। उन्होंने इस मामले की डीएम स्तर रिपोर्ट भी तलब की है।
इटावा मंडी के सचिव अनिल कुमार ने मंडी निरीक्षक के निलंबन की पुष्टि करते हुए बताया कि रिश्वत का वीडियो वायरल होते ही जांच रिपोर्ट शासन स्तर को भेजी दी गई। शासन स्तर पर ही मंडी निरीक्षक सोगेंद्र सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। निलंबित करने के साथ ही सोगेंद्र सिंह को फर्रुखाबाद में संबद्ध भी कर दिया गया है।
अगर इनके खिलाफ अन्य मामले भी सामने आते हैं तो फिर विभागीय कार्रवाई भी अमल में लाई जाएगी। 5 दिन पहले इटावा जिले मे नवीन मंडी के इंस्पेक्टर सोगेंद्र सिंह के 1100 रुपये की रिश्वत लेकर बिना गेट पास के लहसुन भरे वाहन को पास कराने का वीडियो वायरल होने से हडंकप मचा हुआ था।
करीब पांच मिनट अडतालिस सेंकेड के इस रिश्वत वाले वायरल वीडियो में मंडी निरीक्षक जिस हेकड़ी के साथ रिश्वत लेता नजर आ रहा है उससे साफ है कि मंडी निरीक्षक बेखौफ रिश्वत लेकर शासन को प्रतिदिन लाखों रुपये राजस्व का चूना लगा रहा था।
दरअसल उसराहार का व्यापारी आमीन खां लहसुन की गाड़ी निकालने के लिए मंडी निरीक्षक के पैर तक छूता है। 1000 रुपए लेकर मंडी निरीक्षक बिना गेटपास जारी किए लहसुन से भरी यूटीलिटी निकालने की अनुमति देता है। मंडी निरीक्षक बिना रिश्वत लिए गेट से गाड़ी निकलने नहीं देता और रिश्वत मिलने पर बिना गेटपास के ही गाड़ी को निकाल देता है। इसी से तंग आकर इस छोटे व्यापारी ने अपने साथी के साथ यह वीडियो बनाकर वायरल की।
इस वीडियो व्यापारी की मजबूरी साफ दिख रही है। वीडियों में व्यापारी स्कूटी से गेट पर जाता है। वह मंडी निरीक्षक सोगेन्द्र सिंह से गाड़ी निकालने के लिए 600 रुपए देता है। मंडी निरीक्षक उससे 1200 रुपए की मांग करता है। व्यापारी मिन्नतें करता है तब जाकर वह एक हजार रुपए पर राजी होता है। व्यापारी पैसे देकर चला जाता है। उसके बाद विडियो वायरल हो जाता है।