दिल्ली हिंसाः मरने वालों की संख्या 30, हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल के परिजनों को मिलेगा 2 करोड़

उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा और उपद्रव में मरने वालों की संख्या बढ़कर 30 तक पहुंच गई है। बुधवार को सात अन्य लोगों की मौत हो गई है। हिंसा में 56 पुलिसकर्मियों समेत करीब 200 लोग घायल बताए जा रहे हैं। गुरु तेग बहादुर अस्पताल के मुताबिक मृतकों की संख्या 23 हो गई है, जबकि 189 लोग घायल अवस्था में लाए गए हैं। उधर हिंसा में मारे गए हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल के परिजनों को 2 करोड़ रुपए मिलेंगे और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दि जाएगी।
अमित शाह ने 24 घंटे में बुलाई चौथी बैठक
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली की हिंसा को लेकर फिर से बैठक बुलाई थी। इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी मौजूद थे। यह मंगलवार से गृह मंत्री अमित शाह की इस मुद्दे पर चौथी बैठक है। दिल्ली हिंसा को नियंत्रित करने की जिम्मेदारी अजित डोभाल को सौंप दी गई है। उन्होंने दंगाग्रस्त मौजपुर और बाबरपुर एरिया का दौरा किया।
CM केजरीवाल का ऐलान- रतन लाल के परिवार को 1 करोड़, एक सदस्य को नौकरी
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा में ऐलान करते हुए कहा कि दिल्ली सरकार शहीद रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ रुपये और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देगी। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के लोग हिंसा नहीं चाहते हैं। यह कुछ असामाजिक, राजनीतिक और बाहरी तत्वों द्वारा किया गया है। दिल्ली में हिंदू और मुसलमान कभी नहीं लड़ना चाहते हैं।
दिल्ली हिंसा पर हाईकोर्ट सख्त
वहीं, दिल्ली हिंसा मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि दिल्ली में दूसरा 1984 दंगा नहीं होने देंगे। दिल्ली हाईकोर्ट ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा मामले की सुनवाई करते हुए दिल्ली पुलिस की कार्यशैली पर बेहत सख्त टिप्पणी की। कोर्ट ने कहा कि बीजेपी नेता कपिल मिश्रा के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने के लिए एफआईआर दर्ज करना चाहिए। कोर्ट ने सुनवाई के दौरान पुलिस अधिकारियों से भी पूछा कि उन्होंने क्यों नहीं एफआईआर दर्ज किया।
दिल्ली में बवाल, एक्शन में डोभाल
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने बुधवार को सीलमपुर इलाके में डीसीपी ऑफिस जाने के बाद हिंसा प्रभालित इलाकों का दौरा किया। इस दौरान डोभाल ने उत्तर पूर्वी दिल्ली के स्थानीय निवासियों के साथ बातचीत की। उन्होंने लोगों से कहा कि प्रेम की भावना बनाकर रखिए। हमारा एक देश है। हम सबको मिलकर रहना है। देश को मिलकर आगे बढ़ाना है।
केजरीवाल ने की सेना बुलाने की मांग
इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र से हिंसाग्रस्त इलाकों में आर्मी तैनात करने की मांग की। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस अच्छा काम कर रही है लेकिन वो हिंसा काबू कर पाने में अब तक असफल साबित रही है। इसलिए जरूरी है कि शांति स्थापित करने के लिए प्रभावित इलाकों में सेना की तैनाती की जाए।
हिंसा प्रभावित इलाकों में सुरक्षा बलों का फ्लैग मार्च
इस बीच बुधवार को हिंसाग्रस्त इलाकों में पुलिस और सुरक्षाबलों ने फ्लैग मार्च निकाला। पुलिस के मुताबिक दो दिन तक हिंसा भड़कने के बाद अब सीलमपुर और मौजपुर में हालात सुधरते दिख रहे हैं। बुधवार तड़के साढ़े चार बजे के बाद से हिंसा की कोई घटना सामने नहीं आई है। मौजपुर इलाके में बुधवार सुबह कई जगह पर लोग काम पर जाते दिखे। वहीं पुलिस ने बाबरपुर, जाफराबाद और गोकुलपुरी में यातायात बंद कर रखा है।
स्पेशल कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव ने जाफराबाद इलाके का दौरा किया
दिल्ली पुलिस के स्पेशल कमिश्नर (लॉ एंड ऑर्डर) एसएन श्रीवास्तव और स्पेशल पुलिस कमिश्नर (क्राइम) सतीश गोलता ने बुधवार सुबह हिंसा और उपद्रव के सबसे ज्यादा प्रभावित जाफराबाद इलाके का दौरा किया है। बता दें कि गृह मंत्रालय ने एसएन श्रीवास्तव ने मंगलवार को ही नियुक्त किया है।