कोरोना वायरसः मरकज में आए लोगों की तलाश तेज, यूपी में 8, महाराष्ट्र में भी मिले 10 विदेशी

लॉकडाउन के दौरान राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में मौजूद तब्लीगी जमात के मरकज में कोरोना संक्रमित लोगों से मिलने से हड़कंप मचा है। दिल्ली सरकार से मुताबिक यहां परप तकरीबन 2000 लोगों की भीड़ थी, जिसमें से 24 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं, इनमें से 6 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां आए लोगों में से एक हजार अपने घरों को वापस हो चुके हैं। सरकार के सामने संकट यह है कि अगर इन लोगों में भी कोरोना के लक्षण मिले तो ये लोग कई लोगों को संक्रमित कर सकते हैं। ऐसे में उन सभी को खोजने के लिए देश के अलग-अलग हिस्सों में तलाश जारी है।
सीएम योगी ने रद्द किया दौरा
दिल्ली मरकज में शामिल लोगों के उत्तर प्रदेश के कई इलाकों से मिलने की खबर मिलते ही सीएम योगी अपना आगरा- मेरठ दौरा रद्द कर लखनऊ लौट आए हैं। इसे लेकर उन्होंने आला अधिकारियों के साथ बैठक की है। इस मरकज में उत्तर प्रदेश के करीब 18 जिलों के लोग शामिल थे। घटना सामने आने के बाद हरकत में सरकार ने लोगों की तलाश शुरू कर दी है।
यूपी के नगीना में मिले 8 लोग, लखनऊ में भी तलाश जारी
इसी सिलसिले में नगीना में 8 धर्म प्रचारक मिले, जो मरकज में शामिल थे। ये प्रचारक इंडोनेशिया से आए थे।
बिजनौर पुलिस ने इन सभी को अब आइसोलेशन सेंटर भेज दिया है, इसके अलावा पांच लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। मौके पर पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम मौजूद है और हर तरीके से मामले को जांच रही है, इलाके को सैनिटाइज भी किया जा रहा है, इसके अलावा लखनऊ में भी इस मामले को लेकर तलाश जारी है।
महाराष्ट्र में दो लोग लिए गए हिरासत में
इस सिलसले में महाराष्ट्र के अहमदनगर में नेवासा पुलिस ने दो लोगों पर मामला दर्ज किया है। मरकस के ट्रस्टियों पर आरोप है कि विदेश से आए दस लोगों की जानकारी प्रशासन को नहीं दी थी। अब सभी को हिरासत में लेकर सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हालांकि, पुलिस अभी इस बात की तलाश कर रही है कि इनका दिल्ली के मरकज मामले से कोई संबंध है या नहीं।
मरकज में असम से पहुंते थे सबसे ज्यादा लोग
बता दें कि दिल्ली के निज़ामुद्दीन इलाके में मौजूद तब्लीगी जमात के मरकज में देश के करीब 19 राज्यों के लोग शामिल हुए थे। इनमें से करीब 456 लोग असम से आए थे, जिनको लेकर अब असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने अपील की है कि वो खुद सरकार से संपर्क करें। मुख्यमंत्री के अलावा बीजेपी नेता शहनवाज़ हुसैन और मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी लोगों से अपील की है कि वे खुद सरकार के सामने आए, ताकि कोरोना वायरस को लोगों में फैलने से रोका जा सके।