यूपी में गहराया कोरोना का संकट, अब तक दो की मौत,113 संक्रमित

कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा अब उत्तर प्रदेश में गहराने लगा है। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण का आंकड़ा 113 हो गया जिसमें से 44 लोगों को ठीक किया जा चुका है। इस बीत उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित दो लोगों की मौत हो गई है। इनमें से एक बस्ती का 25 वर्षीय युवक व एक 72 वर्षीय वृद्ध मेरठ का रहने वाला है। बस्ती के युवक को जिला अस्पताल से गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में रेफर किया गया था। जहां सोमवार को ही उसकी मौत हो गई, लेकिन रिपोर्ट बुधवार को आई। बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हुई जांच में कोरोना की पुष्टि हुई थी,दोबारा जांच के लिए उसे लखनऊ के केजीएमयू लैब भेजा गया था यहां भी युवक में कोरोनावायरस की पुष्टि हुई।
यूपी में कोरोना वायरस के पहली मौत
बता दें देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से इतनी कम उम्र में होना वाली यह पहली मौत है। केजीएमयू लखनऊ के मीडिया प्रभारी डॉ सुधीर सिंह के मुताबिक, गोरखपुर से जो सैम्पल आया था, वह जांच में पॉजिटिव मिला है। गोरखपुर में हुई जांच भी सही थी। केजीएमयू से क्रॉस चेक होना था। इसमें भी मामला सही पाया गया।
मेरठ में 72 साल के बुजुर्ग की मौत
मेरठ के बुजुर्ग का इलाज वहां के मेडिकल कॉलेज में चल रहा था। उन्हें संक्रमण अपने दामाद से हुआ था, जो महाराष्ट्र के अमरावती से आया था। दामाद के परिवार के 16 लोगों की रिपार्ट भी कोरोना पॉजिटिव है। बुजुर्ग की बेटी व तीन बेटे भी कोराना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें से एक बेटे की स्थिति गंभीर बनी हुई है।
बीते तीन माह से कहीं नही गया था युवक
जिस युवक की मौत हुई वह तीन माह से कहीं नही गया था, लेकिन वह अक्सर बीमार रहता था। मृतक युवक बस्ती जिले के तरकहिया मोहल्ले का रहने वाला था, उसकी उम्र 25 साल थी और वह परचून की दुकान चलाता था। युवक का गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा था।
इलाज करने वाले 12 डॉक्टर क्वारंटाइन
युवक को रविवार को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। पहले उसे जनरल वार्ड में रखा गया था लेकिन बाद में उसे कोरोना वार्ड में भेज दिया गया। अब जिन 12 डॉक्टरों मे युवक का इलाज किया था उन्हें क्वारंटाइन किया गया है। युवक के परिवार वालों की भी जांच की जा रही है।