किसान आंदोलन की आड़ में देश को अस्थिर करने का रचा जा रहा षडयंत्रः सीएम योगी

उत्तर प्रदेश सीएम योगी आदित्यनाथ
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो दिनों के पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दौरे के दौरान रविवार को मेरठ पहुंचे। यहां उन्होंने सरदार बल्लभ भाई पटेल कृषि विश्वविद्यालय में लाइब्रेरी का उद्घाटन करने के बाद किसानों की जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने किसानों को नसीहत देते हुए कहा, “कुछ लोग किसानों के कंधों पर बंदूक रखकर देश की एकता और अखंडता को चुनौती दे रहे हैं। किसानों को ऐसे देश विरोधी ताकतों से सावधान रहने की जरुरत है”।

किसानों की खुशहाली कुछ लोगों को रास नहीं आ रही
अपने संबोधन के दौरान सीएम योगी ने विपक्ष पर जोरदार निशाना साधा। उन्होंने कहा, किसानों की खुशहाली कुछ लोगों को रास नहीं आ रही है। ऐसे लोग किसान आंदोलन की आड़ में षडयंत्र रच रहे हैं।

 

सीएम योगी ने कहा, ये वो लोग हैं जो देश की प्रगति, गरीब का विकास और किसान की समृद्धि नहीं चाहते हैं। ऐसे लोग किसान आंदोलन के बहाने देश को अस्थिर करना चाहते हैं।

 साजिश इसलिए क्योंकि कश्मीर से धारा 370 हट गई
सीएम योगी ने अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी की कार्यशैली और उनके द्वारा किए जाने वाले कामों की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, आज कुछ लोग इसलिए परेशान हैं क्योंकि पीएम मोदी देश को विकास के रास्ते पर ले जा रहे हैं। उन्होंने कहा, आज गन्ना किसानों को उनका भुगतान समय से मिल रहा है। किसानों की फसल की बर्बादी के बाद किसान परेशान न हों इसलिए किसान फसल बीमा कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। उन्होंने विपक्ष को निशाने पर लेते हुए कहा, ये वही लोग हैं जो किसान आंदोलन की आड़ में षडयंत्र रच रहे हैं।

सीएम योगी के संबोधन की मुख्य बातें
-सरकार ने यहां गंग नहर के किनारे कांवड़ का एक अतिरिक्त लेन बनाने का निर्णय किया है
-इसके लिए 600 करोड़ रुपये से अधिक की सहमति दी है
-केन्द्र सरकार के सहयोग से हम 32,000 करोड़ की लागत से मेट्रो का एक नया विकल्प RTTTS के नाम से मेरठ को दिल्ली के साथ जोड़ रहे हैं
-इतनी बड़ी दूरी से जोड़ने का देश का पहला ऐसा कार्य है
-मुख्यमंत्री ने कहा, प्रधानमंत्री का फोकस सिर्फ गरीब और किसान पर ही है
-कुछ लोग इसलिए साजिश रच रहे हैं क्योंकि कश्मीर से धारा 370 हट गई
-अयोध्या में राम मंदिर का समाधान हो गया
-किसानों के हक को हड़पने वाले बिचौलियों की कमाई बंद हो गई
-आज जिन्हें किसानों की प्रगति और विकास से आपत्ति है वे प्रदर्शन कर रहे हैं
-जो भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं, उनकी रिहाई की मांग किसानों के कन्धों पर बंदूक रखकर की जा रही है
-किसी भी समस्या का समाधान संवाद से होता है संघर्ष से नहीं