सांप्रदायिकता, असहिष्णुता और जातियता ने देश को बहुत नुकसान पहुंचायाः अखिलेश यादव

स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने पार्टी मुख्यालय पर उन्हें स्मरण करते हुए पुष्पांजति अर्पित की। इस अवसर पर उन्होंने कहा, स्वामी जी ने असहाय और समाज के वंचित वर्गो की सेवा को ही ईश्वर की भक्ति माना था। अध्यात्म को सामाजिक सरोकारों से जोड़ा था। उन्होंने शिक्षा, सेवा, त्याग और समर्पण पर विशेष बल दिया था। उनका राष्ट्रवाद कट्टरता से मुक्त समन्वयवादी है। स्वामी जी मानते थे कि सांप्रदायिकता, असहिष्णुता और जातीयता ने इस देश को बहुत नुकसान पहुंचाया है।

अखिलेश यादव ने कहा, स्वामी विवेकानंद का कहना था हमे सार्वभौमिक सहिष्णुता पर विश्वास के साथ सभी धर्मो को सच के रूप में हीमें स्वीकार करना चाहिए। वे मानते थे कि मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं है। भूखे पेट और निरक्षरता से अध्यात्म की चर्चा नही हो सकती है। उन्होंने युवाओं को स्वास्थ्य, शिक्षा और अनुशासनपूर्ण जीवन का संदेश दिया था।

समाजवादी पार्टी मुख्यालय में स्वामी विवेकानंद जी के चित्र पर नेता विरोधी दल विधानसभा राम गोविन्द चौधरी, राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी तथा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने पुष्पांजलि अर्पित की।

इसके अलावा आज सपा प्रमुख के निर्देश पर राजधानी समेत सूबे के अधिकांश जनपदों में समाजवादी युवा घेरा कार्यक्रम आयोजित किया गया। प्रदेश के सभी मुख्यालयों, गांवों, शहरों, महाविद्यालयों तथा विवि में घेरा बनाकर युवाओं ने किसानों तथा अन्य बिदुओं पर चर्चा की। समाजवादी युवा प्रकोष्ठों के पदाधिकारी युवा घेरा कार्यक्रम में सक्रियता से शरीक रहे। आज के कार्यक्रम में छात्रों-नौजवानों के साथ समाजवादी पार्टी के सांसद, विधायक एवं वरिष्ठ नेता भी बड़ी संख्या में शामिल रहे।

युवा घेरा कार्यक्रम में नौजवानों के लिए रोजगार के घटते अवसर, बढ़ती बेरोजगारी, मंहगी शिक्षा, छात्र संघों के चुनावों पर रोक, आनलाइन शिक्षा की दिक्कतें, छात्रों पर फर्जी अपराधिक मुकदमों के साथ बदहाल कानून व्यवस्था में बहन बेटियों के साथ बढ़ते दुष्कर्म काण्ड शिक्षा क्षेत्र में राजनीतिक हस्तक्षेप, छात्र संघों पर रोक आदि मुद्दों पर युवा छात्र नेताओं ने विचार व्यक्त किए।