सीएम योगी की दरियादिली- 75 वर्षीय वृद्धा को दिया मकान, खुलवाई पराठे की दुकान

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के बारे में कहा जाता है वह जिस पर मेहरबान हो जाएं उसका जीवन सुधर जाता है, बस बात उन तक पहुंचनी चाहिए। मानवता को अपने जीवन का लक्ष्य बना चुके सीएम योगी की ऐसी ही मेहरबानी एक 75 वर्षीय वृद्धा पर बरसी है। आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश अभियान के तहत उन्होंने सड़क पर साग बेचने वाली 75 वर्षीय शांति देवी को एक दुकान मुहैया कराई जहां पर अब यह वृद्धा साग का पराठा बेचकर जीवन यापन कर रही हैं।

दुकान के उद्घाटन के के मौके पर 75 वर्षीय शांति देवी ने सीएम योगी की भूरी-भूरी प्रशंसा करते हुए कहा, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जरिए से उन्हें अपना रोजगार शुरू करने में सहायता मिली है ,मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई और धन्यवाद।

दरअसल हाथरस में 75 वर्षीय बुजुर्ग शांति देवी सड़क पर बथुए का साग बेचा करती थीं। बेटी के साथ रहने वाली शांति देवी का एक मार्मिक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इस वीडियो का सीएम योगी ने संज्ञान लिया। इसके बाद हरकत में आए मुख्यमंत्री कार्यालय ने हाथरस के डीएम से संपर्क पर वृद्धा को तत्काल सहायत पहुंचाने का फरमान जारी कर दिया। अब 75 वर्षीय शांति देवी अपनी बेटी के साथ अम्मा के पराठे के स्टाल पर लोगों को शुद्ध पराठा खिला रही हैं।

जीवन जीने के साथ अपनी बेटी को रखना 75 वर्षीय शांति देवी को भारी पड़ रहा था। उनकी लाचारी का संज्ञान सीएम ने लिया। डीएम हाथरस प्रवीण कुमार ने अम्मा शांति देवी को सरकारी योजना के अंतर्गत लाभ दिया और उनके लिए आजीवन चलाने के लिए एक अम्मा के पराठे का स्टाल भी लगवाने में सहायता प्रदान की। डीएम प्रवीण कुमार न स्वयं अम्मा के पराठ स्टाल का फीता काटकर उद्घाटन किया। अम्मा पराठ का यह स्टाल हाथरस के ओढपुरा में स्थित है।

इतना ही सीएम योगी के निर्देश पर 75 वर्षीय शांति देवी को हाथरस जिला प्रशासन की तरफ एक मकान, राशनकार्ड के साथ उनके राजगार की व्यवस्था भी कराई गई।