काशी को सीएम योगी की बड़ी सौगात, इस योजना से गंगा अविरल प्रवाहित होगी, बढ़ेगा रोजगार

काशी महादेव की नगरी, महादेव की जटाओं से निकली गंगा की अविरल धारा निरंतर प्रवाहित होती रहे। इसी मंगल कामना को लेकर सीएम योगी नरंतर प्रयास में लगे हैं। ऐसा नही कि केवल पतित पावनी गंगा के बारे में उनके विचार ऐसे हैं। वह चाहते हैं यूपी की धरती को छूती निकलने वाली सभी नदियां अविरल प्रवाहित होती रहें। तमाम योजनाओं पर काम चल रहा है कई जगह नदियों के अविरल प्रवाह को लेकर टेनरियों पर प्रतिबंध भी लगाए गए हैं। इस बीच सीएम योगी महादेव की नगरी काशी में गंगा की अविरलता को लेकर बड़ा निर्णय लिया है।
सीएम योगी ने गंगा नदी के अविरल प्रवाह के लिए पायलट प्रोजेक्ट के रूप में गंगा घाट पर सीएनजी स्टेशन की स्थापना को मंजूरी दी है। वाराणसी में कई जगहों पर काम चल भी रहा है। यह इसलिए की गंगा नदी को प्रदूषण के मुक्त करने के लिए इसमें चलने वाली नौकाओं को सीएनजी से संचालित किया जाएगा।
वाराणसी में गंगा नदी में चलने वाली नौकाएं अब न तो प्रदूषण फैलाएंगी और न ही शोर करेंगी। इस प्रोजेक्‍ट के तहत खिरकिया घाट पर सीएनजी स्टेशन को बनाया जा रहा है। पहले फेज में करीब 51 नौकाओं में सीएनजी इंजन लगाया जाएगा। जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी का संसदीय क्षेत्र दुनिया का पहला ऐसा शहर होगा जहां इतने बड़े पैमाने पर सीएनजी नौकाओं का संचालन होगा।
वाराणसी के कमिश्नर दीपक अग्रवाल- गेल इंडिया ने कार्पोरेट सोशल रेस्‍पोंसिबिल्‍टी’ प्रोजेक्ट के तहत इस काम को कर रहा है। उन्होंने बताया कि लगभग 34 करोड़ के बजट से 1,700 छोटी और बड़ी नाव में सीएनजी इंजन लगाया जाएगा। छोटी नाव पर करीब 60 से 70 हजार का जबकि बड़ी नाव और बजरा पर लगभग दो लाख या उससे अधिक की लागत लगेगी। बता दें कि लागत का एक छोटा सा भाग नाविकों से भी लिया जाएगा जो कि बहुत कम होगा।
गेल इंडिया के उप महाप्रबंधक गौरी शंकर मिश्रा- पहले चरण में करीब एक करोड़ की लागत से 51 नौकाओं में सीएनजी इंजन लगाए जाएंगें। जिसके लिए घाट पर ही डाटर स्टेशन बन रहा हैं। जेटी पर डिस्पेन्सर भी लग गया है। जो लगभग पंद्रह दिनों में चालू हो जाएगा। नाविकों के लिए नगर निगम सख्त नियम लागू कर रहा है जिसमें लाइसेंस देते समय प्रशासन ये सुनिश्चित कराएगा कि नौकाओं पर रेडियम की पट्टी लगी हो ताकि नौकाएं कम रोशनी में भी दिख सकें और दुर्घटना न हो।