सीएम योगी के इस निर्णय से दहशत में अधिकारी, हालात परखने किसी भी शहर में कभी भी पहुंच सकते हैं

सफाई व्यवस्था को लेकर सीएम योगी ने अधिकारियों की लगाई क्लास
प्रदेश स्मार्ट कैसे बने, लोग स्मार्ट कैसे हों, अपने शहर को कैसे स्मार्ट रखना है। ऐसी तमाम बातें जिसे लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तमाम प्रयास कर रहे हैं। हालांकि उनका ये प्रयास परवान चढ़ता नजर नहीं आ रहा है। स्मार्ट शहरों की रैंकिंग में लगातार पिछड़ रहे प्रदेश के तमाम शहरों की स्मार्टनेस पर सवाल खड़े हो रहे हैं।
सीएम योगी ने इसे लेकर जिम्मेदार अधिकारियों की कई बार क्लास लगाई, कई बार उन्हें चेतावनी भी दी लेकिन न तो अधिकारी सुधरने को तैयार हैं न नागरिक। लगातार बढ़ती लापरवाहियों पर सीएम योगी सख्त नाराज हैं और अब उन्होंने इसे पटरी पर लाने का बीड़ा उठाया है। उन्होंने एक नई रणनीति पर काम करने का निर्णय लिया है।
कभी भी किसी भी जनपद में पहुंच सकते हैं सीएम योगी
अपने ऑफिस में बैठकर सरकारी योजनाओं की जानकारी लेने और फाइलों की जांच करने वाले सीएम योगी अब नए अवतार में दिखेंगे।बदले तेवर के साथ जनता की मिजाज जानने और शहर की स्वच्छता को परखने के लिए वह किसी भी वक्त किसी भी शहर में बिना जानकारी के पहुंच सकते हैं। शनिवार को सीएम योगी ने मुरादाबाद से गाजियाबाद तक कार सफर कर इस बात के संकेत दे दिए हैं।
परखेंगे अधिकारियों की कार्यशैली का मिजाज
इस सफर के दौरान उन्होंने हर उस चीज पर पैनी नजर रखी जिससे शहर की स्मार्टनेस प्रभावित हो रही है। सबसे ज्यादा उन्हें जिस बातपर गुस्सा आया वह थी शहरों की गंदगी। उनकी इस रणनीति से प्रदेश के अधिकारियों की कार्यशैली का मिजाज भी पता चला।
अधिकारियों की इस करतूत पर सोमवार को सीएम योगी ने शहर को बेहतर बनाने के लिए जिम्मेदार अधिकारियों को तलब किया। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को अपनी कार्यशैली बदलने के साथ ही शहरों की स्वच्छता को बेहतर करने के सख्त निर्देश दिए।
सीएम के इस कदम से दहशत में अधिकारी
हालांकि उनकी ये रणनीति कितनी कारगर होगी ये तो आने वाले वक्त में पता चल ही जाएगा, फिलहाल अधिकारी फिलहाल दहशत में हैं। दरअसल मुरादाबाद से गाजियाबाद के सफर के दौरान सीएम योगी मेरठ से होकर गुजरे, यहां पर उन्हें साफ-सफाई की व्यवस्था बदतर स्थिति में दिखी। इस दौरान रास्ते के किनारे खड़े लोगों ने हाथ उठाकर उनका स्वागत किया। उनके उत्साह ने सीएम योगी ने ऐसा निर्णय लिया है।