दिल्ली हिंसा पर CM केजरीवाल का बड़ा बयान, बाहरी लोगों का दिल्ली में प्रवेश बंद होना चाहिए

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शन दिल्ली में सोमवार से हिंसक हो गए। लगातार तीसरे दिन हिंसक झड़पों की खबरें आ रही हैं। दिल्ली के मौजपुर, जाफराबाद, बाबरपुर, चांदपुर भजनपुर इलाके हिंसक झड़पों से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। इन हिंसक झड़पों में हेड कॉन्स्टेबल समेत सात लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 70 से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर है। अब दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने हिंसक झड़पों से निपटने के लिए सख्त कदम उठाने की बात कही है। उन्होंने कहा है कि हिंसा से सबका नुकसान हो रहा है। इस हिंसा में कब किसका नंबर आ जाए कहा नहीं जा सकता है। इस दौरान उन्होंने हिंसा निपटने को लेकर बड़ा बयान दिया है।
दिल्ली के हालात पर सीएम केजरीवाल की विधायकों संघ बैठक
दिल्ली में तीन दिनों से लगातार हो रही हिंसा को लेकर सीएम केजरीवाल ने चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा दिल्ली के हालात को लेकर आप के सभी विधायकों से चर्चा की गई है। सभी का एक मत है कि अब हिंसा पर प्रभावी कदम उठाने की जरुरत है। उन्होंने कहा विधायकों मे बताया कि जिन इलाकों में हिंसा व्यापक रूप से हो रही है वहां पर पुलिसकर्मियों की भारी कमी है। इसके अलावा उन्होने बताया कि पुलिस तबतक एक्शन नहीं ले रही जबतक ऊपर से आदेश न आ जाए।
दिल्ली में बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक
इस दौरान कैजरीवाल ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि हिंसा को देखते हुए दिल्ली की सामी सील कर दी जाए। जिससे हिंसा को बढ़ावा देने वाले दिल्ली में प्रवेश न करने पाएं। जिन्हें दिल्ली में प्रवेश की अनुमति दी जाए उनकी गहनता से जांच की जाए। इस दौरान अगर उनके पास से आपत्तिजनक सामग्री मिलती है तो उन्हें सख्त सजा दी जाए।
दिल्ली के हालात पर अमित शाह के साथ चर्चा शुरु
केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के हालात पर चर्चा के लिए वह गृह मंत्री अमित शाह से मंगलवार को चर्चा शुरु हो गई। इस चर्चा में उप राज्यपाल अनिल बैजल भी उपस्थित हैं। इसके अलावा आईबी के डायरेक्टर, जॉइंट सेक्रेरेटरी यूटी, जॉइंट सेकेट्री इंटरनल सिक्युरिटी, दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी, दिल्ली कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुभाष चोपड़ा और बीजेपी के नेता रामबीर बिधूड़ी भी इस मीटिंग में मौजूद हैं।
उत्तर पूर्व दिल्ली अर्ध सैनिक बलों से हवाले
उधर उत्तर पूर्व दिल्ली के जिन इलाकों में व्यापक पैमाने पर हिंसा हुई है उन इलाकों में एक माह के लिए धारा 144 लगा दी गई है। गृह मंत्रालय से अनुसाल दिल्ली प्रभावित इलाकों में अर्ध सैनिक बलों की 13 कंपनियों को दिल्ली पुलिसे की मदद के लिए तैनात कर दिया गया है। इनमें दो कंपनियां रैपिड एक्शन फोर्स एक कंपनी सीआरपीएफ की महिला कंपनी भी शामिल है।