केन्द्रीय सुरक्षाबलों के जवानों को मिल सकता है हर साल 100 दिन का अवकाश, जानिए गृह मंत्री ने क्या कहा…

केन्द्रीय सुरक्षाबलों के जवानों को आने वाले दिनों में एक साल में 100 दिन का अवकाश मिल सकता है। अगर सब कुछ ठीक रहा और बन रही योजना पर अमल हो गया तो यह सच हो जाएगा। गृहमंत्री अमित शाह ने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के 82 सालों के इतिहास पर आधारित एक पुस्तक ‘राष्ट्र प्रथम’ का लोकार्पण अवसर पर ये बातें कहीं। उन्होंने कहा, मैं चाहता हूं कि गर जवान साल में सौ दिन अपने घर पर अपने परिवार के साथ बिताए। ‘राष्ट्र प्रथम’ पुस्तक को जेएनयू के इतिहास के प्रोफोसर भुवन झा ने संकलित किया है।
अमित शाह ने कहा, केंद्रीय सुरक्षा बलों के जवानों को 100 दिन की छुट्टी मिलनी चाहिए। शाह ने कहा कि मैं चाहता हूं कि हर जवान साल में सौ दिन अपने घर पर अपने परिवार के साथ रह सके। इस पर प्लानिंग होनी चाहिए मैंने ये बात गृह सचिव से भी कही है। भविष्य में ये सम्भव है। शुरुआत में कम से कम 85 फीसदी जवानों को ये सुविधा मिलनी चाहिए।
इस अवसर पर सीआरपीएफ के जवानों को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा, CRPF के इतिहास का आज प्रकाशन किया गया। इसका उद्देश्य नए जवानों को प्रेरित करना है। नए जवानों की प्रेरणा के लिए CRPF गौरव पूर्ण इतिहास का ज्ञान जरूरी है। नए आने वाले जवानों को इस पुस्तक से देश के लिए CRPF के बलिदान और निष्ठा का ज्ञान होगा।
अपने संबोधन में पुलवामा का जिक्र करते हुए अमित शाह ने कहा, पुलवामा की घटना में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे, लेकिन देश ने उसका समुचित जवाब दे कर बदला लिया। इस पुस्तक से देश और दुनिया तक सीआरपीएफ की वीरता का इतिहास पहुंचेगा।
गृह मंत्री अमित शाह ने इस पुस्तक के संकलन कर्ता डा. भुवन झा का सरकार की तरफ से औपचारिक तौर से धन्यवाद करते हुए कहा कि इसमें आगे आने वाला इतिहास भी जुड़ता जाएगा। सीआरपीएफ ने हर मोर्चे पर अपनी वीरता का परिचय दिया है।
अमित शाह ने कहा, प्रधानमंत्री ने पुलिस स्मारक बनवाया है। यहां पुलिस और सशस्त्र बलों की वीरता के किस्सों को दर्ज किया गया है। इस स्मारक को पापुलर करने की आवश्यकता है।