दिल्ली से अयोध्या के बीच दौड़ेगी बुलेट ट्रेन, साधु-संतो ने जताई खुशी, प्रयागराज-मथुरा को भी जोड़ने की मांग

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की आधारशिला रखने के बाद अब सरकार अयोध्या को विश्वस्तरीय सुविधाओं से लैस करने पर जोर दे रही है। अयोध्या के गौरव से दुनिया परिचित हो इसे लेकर सरकार ने बड़ा रूट मैप तैयार किया है। इसी क्रम में अयोध्या से दिल्ली से मध्य बुलेट ट्रेन चलाने की तैयारी शुरु हो गई है। दिल्ली रेलवे और वाराणसी कॉरिडोर में उत्तर प्रदेश के सभी प्रमुख धार्मिक स्थलों को जोड़ा जाएगा। इसे लेकर सरकार ने डीपीआर तैयार करने को कहा है। 865 किलोमीटर लंबे इस ट्रैक का जल्द की हवाई सर्वेक्षण किया जाएगा।
साधु-संतो ने जताई खुशी
अयोध्या से दिल्ली के मध्य बुलेट ट्रेन चलाए जाने को लेकर साधु संतों ने खुशी जाहिर की है। उन्होंने सरकार के इस फैसले का स्वागत करते हुए पीएम मोदी को धन्यवाद दिया है। इसके अलावा उन्होंने सरकार से मांग की है कि बुलेट ट्रेन सेवा से प्रयागराज, मथुरा को भी जोड़ा जाए जिससे दर्शनार्थियों को सभी तीर्थ स्थलों दर्शन आसानी से हो सकें।
अयोध्या के विकास को योगी सरकार तत्पर
दरअसल अयोध्या का गौरव दोबारा हासिल करने को लेकर यूपी की योगी सरकार लगातार प्रयास कर रही है। इसे लेकर अयोध्या में विकास योजनाओं पर तेजी से काम किया जा रहा है। केन्द्र ने अयोध्या रेलवे स्टेशन को मंदिर के आकार का बनावाने की घोषणा बाद अब इस पर अमल भी तेजी से किया जा रहा है। अयोध्या अब बुलेट ट्रेन से जोड़ने की घोषणा के साथ ही यहां से पर्यटन की अपार संभावनाएं दिखाई दे रही हैं। बता दें, यह पहली बुलेट ट्रेन होगी जो इतनी लंबी दूरी तय करके धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं को कम समय में पहुंचाएगी।
अयोध्या के महापौर बोले…
अयोध्या के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय- देश के सभी धार्मिक स्थलों को फोरलेन से जोड़ने के लिए मोदी जी ने रामायण सर्किट योजना शुरू की थी। अब रेलवे का काम हो रहा है, एयरपोर्ट का भी काम हो रहा है, यातायात की जितनी भी प्रकार की सुविधाएं हैं ये सभी धार्मिक स्थलों से जोड़े जाएंगे जिनका अंतिम पड़ाव अयोध्या होगा।
ये भी है मांग…
रामलला के पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास- यह सराहनीय पहल है, बुलेट ट्रेन सेवा को चार स्थानों पर एक साथ शुरू किया जाना चाहिए। काशी, अयोध्या, मथुरा और प्रयागराज को एक साथ बुलेट ट्रेन सेवा से ही जोड़ना चाहिए। ऐसा होने पर श्रद्धालुओं को मथुरा, काशी और प्रयागराज जाने में समस्या नहीं होगी।
तो अयोध्या में बढ़ेगा रोजगार…
मणिराम दास छावनी के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास- दिल्ली से कोई भी ऐसी ट्रेन नहीं थी जो कम समय में श्रद्धालुओं को तीर्थ स्थलों पर दर्शन पूजन कराए। उन्होने मांग की अयोध्या से मथुरा को और प्रयागराज को भी जोड़ा जाए क्योंकि मथुरा की दूरी अयोध्या से बहुत ज्यादा है। बुलेट ट्रेन से यात्रियों का आवागमन अयोध्या में बढ़ेगा तो रोजगार को भी गति मिलेगी।