बंगाल चुनावः एक मां की वो तस्वीर जिसने लोगों का दिल दहला दिया, गलती कहां हुई…

वह एक जननी थी, एक संपूर्ण सृजनकर्ता जिसने समाज के हर बदलते रंग को देखा था, इंसानी फितरत की गवाह थी लेकिन वह नहीं जानती थी कि इंसान इतना क्रूर हो सकता है। उसे अपने जानने वाले इतनी क्रूरता से उससे पेश आएंगे। उसने तो उन्हें ममता भरे हाथों से सहलाया था। उसकी गलती क्या थी, उसने तो संविधान प्रदत्त अपने अधिकारों का प्रयोग किया था, जैसा कहा जा रहा है उसने भाजपा को पहली बार अपनाया था। उसे इसी गलती की सजा दी गई। आरोप है कि उसे टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने बुरी तरह से मारा और गंभीर रूप से घायल कर दिया। खबर मिली कि अब वह अब इस दुनिया में नहीं है।
बंगाल चुनाव में राजनैतिक हत्याओं का दौर पंचायत चुनावों से चल रहा है। एक सत्ताधारी अपनी हनक कायम रखने के लिए विपक्ष की बुनियाद इंसानी जिंदगी के नाम पर हिलाने को तैयार है। सबसे मर्माहत करने वाली इस घटना ने देशभर को हिला कर रख दिया।

सोशल मीडिया पर वायरल इस तस्वीर को देखकर सभ्य समाज सोचने को मजबूर है आखिर सत्ता के लिए इंसानों का खून बहा देने वाले सत्ता पाने के बाद किस तरह की सरकार देंगे। क्या हत्याओं का दौर थमेगा। जो सत्ता हासिल करने से पहले अपने गुंडों के दम पर लोगों की जिंदगियों से खेल रहे हैं क्या सत्ता में आए लोग उन्हें रोक पाएंगे।
पश्चिम बंगाल के उत्तरी दमदम में भाजपा कार्यकर्ता गोपाल मजूमदार और उनकी मां शोबा मजूमदार के ऊपर बीते दिनों हमला किया गया। भाजपा की तरफ से कहा गया, गोपाल मजूमदार भाजपा कार्यकर्ता था इसी वजह से टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने उसकी मां की हत्या कर दी।
जो तस्वीर वायरल हुई है उसमें शोबा मजूमदार को इस कदर पीटा गया है कि उनकी आंखे और चेहरा बुरी तरह से सूज गया था। शोबा मजूमदार की मौत के बाद भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को कठघरे में खड़ा किया है।
तमिलनाडु दौरे पर एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने भी शोबा मजूमदार पर हुए कातिलाना हमले का जिक्र किया। उन्होंने लोगों को बताया किस तरह से बंगाल में महिलाओं को अपमानित किया जा रहा है। गृहमंत्री अमित शाह ने भी उनकी मौत पर ट्वीट के जरिए दुख व्यक्त किया।
अमित शाह ने ट्वीट कर कहा कि बंगाल की बेटी शोबा मजूमदार के निधन से मन बहुत दुखी है। उन्होंने कहा कि टीएमसी के गुंडों ने उन्हें बेरहमी से पीटा। पिटाई के कारण उनकी जान चली गई। उन्होंने कहा कि उनकी मौत और परिवार का दर्द ममता दीदी का लंबे समय तक पीछा नहीं छोड़ेगा।
शोबा मजूमदार को बंगाल की बेटी बताने वाले भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी कहा, ईश्वर, निमता की वृद्ध मां शोभा मजूमदार की आत्मा को शान्ति प्रदान करें। बेटे गोपाल मजूमदार के बीजेपी कार्यकर्ता होने के कारण उनको अपनी जान गवानी पड़ी। उनके बलिदान को सदैव याद किया जाएगा। ये भी बंगाल की मां थी, बंगाल की बेटी थी। बीजेपी हमेशा मां और बेटी की सुरक्षा हेतु लड़ती रहेगी।
बहरहाल राजनीति में इंसानी जिंदगियों को दांव पर लगा सत्ता हथियाने का खेल कब रुकेगा पता नहीं। नेता मौतों पर राजनीति करना कब छोड़ेंगे पता नहीं लेकिन अब लगता ये है कि जबतक राजनीति चलती रहेगी इंसानी जिंदगी यूं ही मिटती रहेगी, आखिर इसका अंत कब होगा, कब जागेगा हिंदुस्तान, कब बदलेगी हिंदुस्तान की तकदीर… उम्मीद कायम है, कभी तो बदलेगा हमारा हिंदुस्तान