भाजपा के रवैये से नाराज राहुल गांधी बीच में ही छोड़ी संसदीय समिति के मीटिंग,स्पीकर से की शिकायत

संसदीय समिति में बोलने का मौका न मिलने के कारण कांग्रेस नेता राहुल गांधी और उनके साथियों ने मीटिंग बीच में छोड़कर चले गए। पीटीआई के अनुसार सशस्त्र बलों की यूनिफार्म को लेकर बात चल रही थी। ये बात राहुल गांधी को पसंद नहीं आई और वह कुछ बोलने के लिए उठे ही थे कि उन्हें समिति के अध्यक्ष भाजपा के सांसद जुएल ओरम ने बीच में ही रोक दिया।
इसी से नाराज होकर राहुल गांधी ने मीटिंग को बीच में छोड दिया। राहुल गांधी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर मौजूद जवानों के मुद्दे को उठाना चाहते थे। उन्होंने कहा कि राजनीतिक नेतृत्व को राष्ट्रीय सुरक्षा और लद्दाख में चीन से लड़ रहे जवानों को कैसे मजबूत बनाया जाए जैसे मुद्दों पर बात करनी चाहिए।
राहुल गांधी ने आरोप लगाए हैं कि मीटिंग के दौरान न ही उन्हें और न ही उनके साथियों को बोलने दिया गया। यह विवाद तब सामने आया जब पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल और हरियाणा से राज्यसभा सांसद बीजेपी के देवेंद्र पॉल वत्स ने यूनिफॉर्म में बदलाव के मुद्दे को उठाया था। इसके बाद गांधी ने जानना चाहा कि क्यों राजनेताओं को सेना की वर्दी और रैंक तय करनी होती है। उन्होंने सलाह दी कि यह काम सेना को ही करने दिया जाए।
इस बैठक में राहुल के साथ कांग्रेस (Congress) नेता राजीव सातव और रेवानाथ रेड्डी भी बाहर आ गए थे। कांग्रेस नेता ने आरोप लगया है कि इस मीटिंग में जवानों को बेहतर हथियार देने पर चर्चा करने के बजाए पैनल यूनिफॉर्म पर बात कर समय खराब कर रही थी। इस मीटिंग में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) भी मौजूद थे।