अखिलेश यादव ने कहा- सरकार बनी तो एनआरसी-सीएए के विरोध प्रदर्शनों के दौरान दर्ज मुकदमें होंगे वापस

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि अगर सपा सरकार सत्ता में आती है तो एनआरसी और सीएए के विरोध प्रदर्शनों के दौरान दर्ज मुकदमें वापस ले लिए जाएंगे। मंगलवार को बहुजन समाज पार्टी से निष्कासित दो पूर्व सांसदों मसूद आलम खान और रमेश गौतम के अलावा शायर मुनव्वर राणा के बेटी समैया राणा ने सपा ज्वाइन कर ली। सदस्यता ग्रहण कराने के बाद अखिलेश यादव ने भाजपा पर जोरदार हमाला बोला। उन्होंने कहा भाजपा सरकार विरोध में उठने वाली विपक्ष की आवाज दबाने के लिए झूठे मुकदमें लगा रही है।
इस दौरान उन्होंने गठबंधन पर अपनी बात रखते हुए कहा कि 2022 में होने वाले चुनावों में सपा ने अपने दरवाजे खोल रखे हैं। उन्होंने कहा सपा लगातार छोटे दलों के संपर्क में है और उन्हें अपने साथ जोड़ने का काम कर रही है। भाजपा पर हमला करते हुए अखिलेश ने हाथरस और मुजफ्फरनगर कांड का भी जिक्र किया।

अखिलेश यादव मे कहा, जिस तरह से भाजपा सरकार विपक्ष को दबाने के लिए झूठे मुकदमों में फंसा रही है इसके लिए सभी को एक साथ एक मंच पर आने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि भाजपा जो काम कभी लोकतंत्र में नहीं हुए वो काम कर रही है। मंत्री जिसने शपथ ली हो वो फर्जी मोबाइल लांच कर रहा है। वो दिन आप कैसे भूल सकते हैं जब विधानसभा में एक पुड़िया मिल गई थी। आपको भाजपा आतंकवादी बता सकती है।
इस दौरान अपने संबोधन में अखिलेश यादव ने नए कृषि कानूनों को लेकर भी अपनी बात रखी। उन्होंने कहा, सरकार लगातार कह रही है कि वह किसानों को एमएसपी देगी। उन्होंने कहा सरकार बताए कि अभी तक कितने किसानों को एमएसपी दी गई। उन्होंने कहा भाजपा ने अभी तक जितने भी फैसले लिए हैं उसने देश की अर्थव्यवस्था को बिगाड़ने का काम किया है।

अखिलेश ने गोरखपुर में मेट्रो को लेकर योगी सरकार पर बड़ा तंज किया। उन्होंने कहा, योगी जी का विजन गोरखपुर में मेट्रो कब तक चलवा रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने पश्चिम बंगाल में चुनाव को लेकर कहा, भाजपा के लोग वहां पर लोगों को डरा धमकाकर भाजपा में शामिल करवा रहे हैं। उत्तर प्रदेश में भाजपा ऐसा कर चुकी है। मुजफ्फरनगर दंगों में केस वापस लेने पर भी अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार जिस पर से चाहे मुकदमे वापस ले सकती है।