40 साल बाद सरयू नहर में बही धारा, सीएम योगी ने दी सौगात तो खिल उठे किसानों के चेहरे

40 साल बाद सरयू नहर परियोजना की टेल तक पानी पहुंचा, सीएम योगी की इस सौगात से किसानों में खुशी की लहर दौड़ गई
शारदा नहर बैराज से निकलने वाली सरयू नहर में पानी आने का 40 साल से इंतजार कर रहे किसानों की आज खुशी का ठिकाना नहीं रहा। चार दशक बाद आज जब सरयू नहर में पानी की धारा बही तो किसानों के चेहरे खुशी से चमक उठे। सरयू नहर परियोजना सीएम योगी के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल था और आज जब 40 साल बाद योजना पूरी होने के साथ टेल तक पानी पहुंचा जो किसानों के साथ इस परियोजना से जुड़े तमाम अधिकारियों के चेहरे पर भी खुशी के भाव दिखाई पड़े।
किसानों के खेतों तक पानी की सुविधा पहुंचाने के लिए सिचाई विभाग ने वर्ष 1978 में सरयू नहर परियोजना शुरू की थी। जिले में 1660 किलोमीटर लंबाई में नहरों का निर्माण होना था। इसके लिए 235 नहरें बनाई गई हैं। वर्ष 2005 में किसानों से जमीन लेने का कार्य शुरू हुआ, मगर प्रशासनिक शिथिलता के चलते योजना बंद हो गई। वर्ष 2017 में प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस परियोजना को प्राथमिकता के आधार पर पूरी करने की योजना बनाई।
संतकबीरनगर तथा गोरखपुर जनपद में कुल लगभग 12 किमी नहर की खुदाई की गई, जिसे गोरखपुर के पाली ब्लॉक की ग्रामसभा तिवरान के पास बखिरा पंप नहर में जोड़ दिया गया। नहर का निर्माण पूरा होने तथा वर्षों बाद पानी बहने से किसानों में खुशी का माहौल हैनहर से जनपद में करीब एक लाख हेक्टेयर से अधिक भूमि की सिंचाई हो सकेगी। 40 साल पहले पर्याप्त बिजली नहीं मिलने से पानी टेल तक नहीं पहुंच पाता था। लेकिन अब इस समस्या का समाधान कर दिया गया है।
विजय कुमार (अधिशाषी अभियन्ता, सरयू नहर, संतकबीरनगर)- सरयू नहर परियोजना के पूरा होने से संतकबीरनगर और गोरखपुर जिले के किसानों के खेतों तक नहर का पानी पहुंचेगा। यकीनन 40 साल से नहर में पानी आने का इंतजार कर रहे किसानों को योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने बड़ी सौगात दी है।
सिद्धार्थनगर बांसी सरयू नहर खंड प्रथम, अधिशासी अभियंता उग्रसेन वर्मा- परियोजना के पूरा होने से किसानों को निशुल्क सिंचाई की सुविधा मिलेगी, जिससे उनकी लागत कम होगी और पैदावार बढ़ेगी।सहायक अभियंता केसी विश्वकर्मा, कुमार गौरव एवं अवर अभियंता संजय विश्वकर्मा को इस नहर की देखरेख की जिम्मेदारी सौंपी गई है।