बैंकों की सुरक्षा के लिए 112 यूपी पुलिस का लिया जाएगा सहयोग

बैंको की सुरक्षा व्यवस्था को अधिक सुदृढ़ एवं चुस्त-दुरूस्त करने के लिए तकनीकी का अधिकाधिक उपयोग किया जायेगा। बैंकों विशेषकर करैंसी-चेस्ट एवं एटीएम की सुरक्षा व्यवस्था को और प्रभावी बनाये जाने के लिए 112 यूपी का सहयोग लिया जायेगा। इसके लिए बैंकों से उनकी शाखाओं तथा उसके अन्तर्गत स्थापित एटीएम की लोकेशन का विस्तृत विवरण उपलब्ध कराये जाने के लिए कहा गया है ताकि उसको 112 यूपी के डाटा बैंक से जोड़ा जा सके। इसके अलावा नवगठित स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स की सुविधा बैंको को उपलब्ध करायी जायेगी।
अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी की अध्यक्षता में बैंकों की सुरक्षा के संदर्भ में गठित राज्य स्तरीय सुरक्षा समिति की लोक भवन में बैठक हुई। बैठक में रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया के क्षेत्रीय निदेशक, आरएलके राव, प्रबन्धक, सहायक महाप्रबन्धक, गृह सचिव, भगवान स्वरूप, अपर पुलिस महानिदेशक, कानून एवं व्यवस्था प्रशान्त कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक, अपराध केएसपी कुमार के अलावा विभिन्न बैंकों के वरिष्ठ अधिकारीगण के साथ-साथ गृह एवं पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारीगण मौजूद रहे।
बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि सभी बैंकों में आग से बचाव के लिए पर्याप्त प्रबन्ध किये जाने पर जोर दिया गया। इसके लिए नियमित फायर ऑडिट कराये जाने तथा उसकी समीक्षा किये जाने के भी निर्देश दिये गये हैं। बैंको के करैंसी चेस्ट का सुरक्षा ऑडिट स्थानीय थानाध्यक्ष एवं सम्बन्धित बैंक के शाखा प्रबन्धक के संयुक्त प्रयास से किया जायेगा।
बैंकों की करैंसी चेस्ट में उपयोग की जाने वाली नगदी के सुरक्षित आवागमन विशेषकर उसे दूसरे राज्यों में लाने ले जाने से जुड़े सुरक्षा से सम्बन्धित विभिन्न बिन्दुओं पर भी विस्तार से विचार-विमर्श किया गया। जाली नोटों के प्रचलन को सख्ती से रोकने के लिए भी सम्मिलित प्रयास किये जाने की आवश्यकता पर बल दिया गया। बैंकों की सुरक्षा प्रबन्धों से जुड़े जिन प्रकरणों में स्थानीय शाखाओं की लापरवाही पायी जायेगी उसके लिए वरिष्ठ अधिकारियों को रिपोर्ट भेजी जायेगी।