सावधानः इन फलों के रस से भी खतरनाक स्तर तक पहुंच सकता है शुगर

0
38
शुगर के मरीजों के लिए जितने लोग उतनी सलाह। एक मिथक ये भी है कि शुगर के मरीजों को ऐसे सीजनल फल नहीं खाने चाहिए जो मीठे हों। लेकिन डॉक्टर्स की माने तो ऐसा बिल्कुल नहीं है, डॉक्टर के अनुसार भोजन में सब कुछ लेना चाहिए लेकिन मानकों के हिसाब से। लेकिन ताजा शोध बताता है कि प्राकृतिक रूप से मीठे पेय पदार्थ भी टाईप-2 के शुगर के मरीजों शुगर लेबल खतरनाक स्तर तक बढ़ा सकता है।
ये पेय पदार्थ टाइप-2 शुगर के व्यक्ति के लिए खतरनाक हैं
एक नए अध्ययन में इस बात का सुझाव दिया गया है कि प्राकृतिक रूप से मीठे पेय पदार्थ जैसे 100 फीसदी फलों का रस और कृत्रिम रूप से मीठे पेय शॉफ्ट ड्रिंक्स भी टाइप-2 शुगर के व्यक्ति के लिए खतरनाक हो सकते हैं। डायबिटीज केयर पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में इस बात का जिक्र किया गया है।
इनके पीने से शुगर का खतरा कम होता है
हावर्ट टी एच चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के अध्ययन में कहा गया है कि शर्करा युक्त पेय के बजाय कृत्रिम रूप से मीठे पेय का सेवन अगर पानी, कॉफी या चाय के साथ परोसा गया हो तो इसके खतरे कम होते हैं। एसएसबी और एएसबी की खपत और टाइप-2 शुगर में दीर्घकालीन परिवर्तनों के बीच संबंध का विश्लेषण करने वाला इस प्रकार का यह पहला अध्ययन है।
अधिक शर्करा वाले ड्रिंक से शुगर होने का खतरा ज्यादा होता है
इसका अध्ययन करने वाले जीन-फिलिप ड्रोइन-चार्टिएर, पोषण विभाग में पोस्ट डॉक्टरल फेलो के प्रमुख लेखक ने कहा कि जो लोग अधिक शर्करा वाला ड्रिंक लेते हैं उन्हें शुगर होने का खतरा ज्यादा होता है और जो लोग रोजाना चाय या कॉफी लेते हैं उनमें शुगर होने का खतरा कम हो जाता है।
डाइट में कम करें मीठा
अध्ययन के परिणाम कृतिम मिठास से मुक्त गैर पेय पदार्थों के साथ शर्करा वाले पेय को बदलने के वर्तमान सिफारिशों के अनुरूप हैं। हालांकि फलों के रस में कुछ पोषक तत्व होते हैं उनकी खपत को कम किया जाना चाहिए। अगर आपको स्वस्थ रहना है तो शुगर को नियंत्रित रखना चाहते हैं तो अपनी डाइट में से मीठे को हटा देने की जरुरत है।
ये भी जानें
-दुनिया भर में करीब 35 करोड़ लोग शुगर के मरीज हैं
-करीब 6।3 करोड़ अकेले भारत में हैं
-डब्ल्यूएचओ- 2030 तक शुगर मौत का सातवां सबसे बड़ा कारण होगा
-चीन में डायबिटीज के करीब साढ़े नौ करोड़ मामले हैं
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here