संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) में कुछ ऐसा रहा पाकिस्तान के झूठ का 115 पन्ना

0
24
जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 खत्म करना पाकिस्तान हजम नहीं कर पा रहा है। वह संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में इसे मुद्दा बनाने की कोशिशों में लगा हुआ है। मंगलवार को UNHRC में कश्मीर की स्थिति को लेकर पाकिस्तान ने 115 पन्नों का डॉज़ियर सौंपा जिसमें उसने भारत पर कई आरोप लगाए। पाक के विदेश मंत्री शाह मसूद कुरैशी ने कहा भारत कश्मीर में मानवाधिकारों का उल्लंघन कर रहा है।

ऐसा है पाकिस्तान के झूठ का पुलिंदा…
-पाकिस्तान ने UNHRC में कहा कि कश्मीर भारत का आंतरिक मुद्दा नहीं है
-कश्मीर में कब्रिस्तान जैसी शांति है और वहां नरसंहार हो रहा है
-पाकिस्तान ने भाजपा के घोषणापत्र तक का ज़िक्र किया
-कुरैशी ने आरोप लगाया कि इसमें मुस्लिम को अल्पसंख्यक बनाने की बात की गई है
-शीर्ष मानवाधिकार निकाय को इस पर उदासीनता से विश्व मंच पर शर्मसार हो रहा है
-जम्मू-कश्मीर में नागरिकों के मूलभूत अधिकारों को रौंदा गया है
-कुरैशी ने यह भी कहा कि जम्मू-कश्मीर में 7 से 10 लाख सैनिक हैं
-6 हफ्तों में यह दुनिया का सबसे बड़ा कैदखाना बन गया है
-कश्मीर में 6 हजार से अधिक नेता, सोशल वर्कर्स और छात्रों को गिरफ्तार किया गया है
-शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि कश्मीर में लोगों को ज़रूरी सामान भी नहीं मिल पा रहे हैं
-वहां के लोग मौलिक स्वतंत्रता के उल्लंघनों का शिकार हो रहे हैं
पत्रकारों के सवालों का जवाब देते वक्त आखिरकार पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी से भारत और जम्मू-कश्मीर की सच्चाई जुबान पर आ गई। जेनेवा में “जम्मू और कश्मीर के भारतीय राज्य” के रूप में कश्मीर का उल्लेख करते हुए उन्होंने जम्मू-कश्मीर के मासले को लेकर भारत पर कई आरोप लगा दिए। भारत ने भी पलटवार करते हुए पाकिस्तान को झूठ बोलने की फैक्ट्री बता दिया।
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here