UNICEF की बैठक में भी कश्मीर मुद्दे पर मात खाया पाकिस्तान, भारत ने की बोलती बंद

0
21
जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 खत्म करने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के बाद भारत और पाकिस्तान के रिश्तों की दरार और बढ़ गई है। पाकिस्तान कई बार अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी इस मामले को उठा को उठा चुका है लेकिन हर बार उसे मुंह की खानी पड़ी है। पाकिस्तान की बौखलाहट कोलंबों में आयोजित UNICEF की बैठक में भी दिखी लेकिन भारत ने तर्कों से पाकिस्तान की बोलती बंद कर दी।
श्रीलंका के कोलंबो में चल रही साउथ एशियन पार्लियामेंटेरिन कॉन्फ्रेंस में चाइल्ड राइट्स कंवेंशन में पाकिस्तान ने कश्मीर का मुद्दा उठाने की पूरजोर कोशिश की लेकिन तर्कों के आधार पर भारत ने पाकिस्तान को कोई मौका नहीं दिया और वहीं पर उसकी बोलती बंद कर दी।
दरअसल पाकिस्तान को यूनिसेफ की इस कॉन्फ्रेंस में भारत के प्रतिनिधि गौरव गोगोई ने पकिस्तान को सीधा जवाब दिया। असम की कलियाबोर सीट से सांसद गौरव गोगोई ने पाकिस्तान को जवाब देते हुए कहा कि जम्मू और कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है, भारतीय लोकतंत्र में हितधारकों के रूप में मैं आपको सलाह देना चाहूंगा कि आप अपने देश में मानवाधिकार, अल्पसंख्यकों की दुर्दशा और ईश निंदा कानून जैसे मामलों से निपटें।
गौरव गोगोई ने ट्वीट किया, कोलंबो में चल रही साउथ एशियन पार्लियामेंटेरिन कॉन्फ्रेंस चाइल्ड राइट्स कंवेंशन को लेकर चल रही कॉन्फ्रेंस में भारत की प्रेज़ेंटेशन के बाद पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाने की कोशिश की लेकिन हमने उन्हें सीडब्लूसी रिसॉल्यूशन की पुष्टि करते हुए कहा कि इस मामले में कोई भी बाहरी दखल बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
इससे पहले भारत ने रविवार को मालदीव में दक्षिण एशिया की संसदों के अध्यक्षों के शिखर सम्मेलन के दौरान कश्मीर मुद्दा उठाने की पाकिस्तान की कोशिश नाकाम कर दी। भारत ने कहा कि इस्लामाबाद को आतंकवाद को सभी तरह का राजकीय सहयोग खत्म करना चाहिए क्योंकि यह मानवता के लिए ‘सबसे बड़ा खतरा’ है। मालदीव की संसद में हुए इस सम्मेलन के दौरान दोनों देशों के प्रतिनिधियों के बीच तीखी तकरार भी देखने को मिली थी।
मालदीव में दक्षिण एशिया के स्पीकरों के शिखर सम्मेलन में कश्मीर मुद्दा उठाने के पाकिस्तान के प्रयासों को भारत द्वारा विफल किए जाने के एक दिन बाद सोमवार को जिस माले घोषणापत्र को स्वीकार किया गया, उसमें इस मुद्दे पर पाकिस्तान के सभी दावों की अनदेखी की गई।
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here