मां तो मां होती हैः बेटे की अर्थी के सामने लोकगीत गाती रही मां और पिता दहाड़ें मारता रहा…

0
22
निर्मल कोमल अविरल शीतल, ममता की मूरत होती है, मां तो आखिर मां होती है…
मां इस दुनिया को अपने तरीके से गढ़ने वाली वाली विधाता है। मां सपने बुनती है और यह दुनिया उसी के सपनों को जीती है और भोगती है। मां जीना सिखाती है। पहली किलकारी से लेकर आखिरी सांस तक मां अपनी संतान का साथ नहीं छोड़ती। मां की संवेदना का इससे बड़ा उदाहरण आज तक नहीं देखा। जहां एक मां अपने बेटे की अंतिम इच्छा को पूरा करने के लिए उसकी अर्थी के पास बैठ कर लोकगीत गाया। अंदर से तोड़ कर रख देने वाली असीम पीड़ा की परवाह न करते हुए इस मां ने वह लोकगीत गाया जो उसके बेटे को पसंद था ‘ चोला माटी के राम’। बेटे का शनिवार को असमय निधन हो गया था, बेटे ने मरने से पहले कहा था कि उसकी अंतिम यात्रा संगीतमय होनी चाहिए।
मां की महिमा को सिर्फ महसूस कर सकते हैं
ये वह मंजर था जिसे देखकर वहां पर मौजूद हर शख्स रो पड़ा, एक मां ऐसा कर सकती है क्या, हर किसी के मन ये सवाल कौंध रहा था लेकिन यही सच था। तभी तो कहा गया है ‘मां’ की ममता और उसके आंचल की महिमा को शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है, उसे सिर्फ महसूस किया जा सकता है।

सूरज तिवारी

मां ने ये गाना गाकर दी बेटे को अंतिम विदाई
छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव में ऐसा ही हुआ। रंगकर्मी और संगीतकार सूरज तिवारी (30 वर्ष) का बीते शनिवार को असमय देहांत हो गया। सूरज की अंतिन इच्छा थी कि उनकी अंतिम यात्रा गीत-संगीत के साथ निकाली जाए। उनकी मौत के बाद मां ने जो एक लोक कलाकार भी हैं ने जीवन की सच्चाई को चित्रित करता एक लोकगीत ‘चोला माटी के हे राम, एखर का भरोसा’ गाकर अंतिम विदाई दी।

मां बोली, बेटे को सच्ची श्रद्धांजलि यही है
दाउ मंदराजी अलंकरण से सम्मानित कलाकार मां पूनम तिवारी जब बेटे की अर्थी के सामने ये गीत गाया तो वहां मौजूद लोग रोने लगे। सूरज के साथियों ने तबला, हारमोनियम में संगत भी दी। पूनम तिवारी इसे अपने बेटे के लिए सही श्रद्धांजलि मानती हैं। उन्होंने बताया, उनके बेटे की यही इच्छा थी, इसलिए उसे पूरा किया। बता दें कि रंगछत्तीसा के संचालक, रंगकर्मी व संगीतकार सूरज हदय रोग से पीड़ित थे। बीते 26 अक्टूबर को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां 2 नवंबर की सुबह उनका निधन हो गया।
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here