मध्य प्रदेश में अब शिव का राज,प्रदेश के 32वें और चौथी बार सीएम बनने वाले पहले व्यक्ति बने

मध्य प्रदेश में कमलनाथ की 15 महीने की सरकार के गिरने के बाद सोमवार को शिवराज सिंह चौहान ने रात के ठीक नौ बजे मध्य प्रदेश के सीएम पद की शपथ ली। राज्यपाल लाल जी टंडन नें उन्हें पद और गोपनियता की शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण समारोह के बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शपथ ग्रहण समारोह में उपस्थित सभी लोगों का धन्यवाद किया। गौरतलब है कि शिवराज प्रदेश के 32वें और सीएम पद पर चार बार काबिज होने वाले पहले व्यक्ति बन गए हैं।
सीएम शिवराज सिंह चौहान बोले, कोरोना पर मिलकर पाएंगे विजय
इस दौरान उन्होंने कहा, मै आज के इस माहौल में आपके साथ हाथ तो नहीं मिला सकता न ही आपके दिए किसी तोहफे को स्वीकार कर सकता हूं। उन्होंने सीएम पद की शपथ लेने के फौरन बाद कहा कि मध्य प्रदेश की जनता ने जिस प्रकार कोरोना वायरस से लड़ने का संकल्प दिखाया है उसे मैं कभी निराश नहीं करूंगा। हम सब मिलकर कोरोना वायरस पर विजय पाएंगे।
सिंधिया और 22 समर्थकों के इस्तीफे के बाद बदले हालात
इससे पहले मध्य प्रदेश की सियासत में तब उथल पुथल मची थी जब कांग्रेस के कद्दावर नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके 22 समर्थकों ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया। काफी प्रयासों के बाद भी जब वह कांग्रेस में वापस नहीं आए तो अन्ततः सीएम कमलनाथ ने अपनी 15 महीने की सरकार से इस्तीफा दे दिया। इस दौरान उन्होंने भाजपा पर गंभीर आरोप भी लगाए। उन्होंने कहा था कि भाजपा ने कांग्रेस विधायकों को बंधक बनाया और उन्हें करोड़ों रूपए के प्रलोभन दिए। उन्होंने कहा, भाजपा को इसका खामियाजा भी भुगतना होगा। उन्होंने जनता से पूछा कि आखिर हमारी गलती क्या थी? इसके बाद उन्होंने मध्य प्रदेश के बनने वाले सीएम को शुभकामनाएं दीं।
शिवराज और मध्य प्रदेश के मामा पर जताया भरोसा
मध्य प्रदेश के सीएम की दौड़ में भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं के नाम चल रहे थे लेकिन आला कमान से एक बार फिर मध्य प्रदेश में मामा के नाम से मशहूर शिवराज सिंह चौहान पर भरोसा जताया। सोमवार को शिवराज सिंह चौहान को पार्टी विधायक दल का नेता चुन लिया गया। पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल भार्गव में शिवराज सिंह के नाम का प्रस्ताव रखा। रात के ठीक नौ बजे एक सादे समारोह में शिवराज सिंह चौहान ने चौथी बार मध्य प्रदेश के सीएम पद की शपथ ग्रहण किया।
शपथ ग्रहण के बाद पहुंचे मंत्रालय
जानकारी के अनुसार देशभर में फैसे कोरोना वायरस के मद्दे नजर शिवराज सिंह चौहान राज शपथ ग्रहण के तत्काल बाद कार्यभार संभालेंगे। कहा ये भी जा रहा है कि वह कोरोना वायरस के संदर्भ में अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी कर सकते हैं। मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस को लेकर क्या होगा इस पर वह फैसला ले सकते हैं।
कमलनाथ सरकार पर बोला हमला, 15 माह ने प्रदेश चौपट हो गया
विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद उन्होंने कहा, पार्टी मेरी मां समान है और मैं मां के दूध का लाज रखने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा। उन्होंने कहा सबको साथ लेकर चलेंगे। इस दौरान उन्होंने मध्य प्रदेश में 15 माह सरकार चलाने वाले कमलनाथ हमला बोला। उन्होंने कहा, पिछले 15 महीने में पूरे प्रदेश की व्यवस्था चौपट हो गई है और अब उसे सुधारा जाएगा।