अमेरिका ने कहा नहीं कर सकता मध्यस्थता,कश्मीर भारत-पाक का द्विपक्षीय मामला

0
22
जम्मू-कश्मीर पर किसी तरह की मध्यस्थता से अमेरिका ने साफ इनकार कर दिया है। अमेरिका से साफ शब्दों में कहा है कि अमेरिका अपनी पुरानी नीति पर चलना चाहता है। अमेरिका ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर भारत और पाकिस्तान का द्विपक्षीय मामला है और इसे ये दोनों देश अपने तरीके से हल करें।
अमेरिका में भारतीय राजदूत हर्षवर्धन सिंगला ने एक बयान में कहा, कि अमेरिका चाहता है कि भारत और पाकिस्तान एक साथ मिलकर कश्मीर मुद्दे का समाधान खोजें, क्योंकि ये दो देशों के बीच का मामला है।
कश्मीर मामले पर अमेरिका ने कह…
-कश्मीर भारत-PAK का द्विपक्षीय मामला है
-अमेरिका अपनी पुरानी नीति पर चलना चाहता है
-ये दोनों देशों की बीच मामला है, किसी प्रकार की मध्यस्थता से इनकार
-अमेरिका कश्मीर मसले पर दखलअंदाजी नहीं करेगा
-भारत ने कहा,जम्मू-कश्मीर आंतरिक मामला है
-कश्मीर मुद्दे पर सिर्फ पाकिस्तान से ही वार्ता हो सकती है
-इस पर किसी दूसरे देश की दखलांदी बर्दाश्त नहीं की जाएगी
ट्रंप ने कहा था…
-कश्मीर भारत-पाक का मामला है
-दोनों देशों की सहमति पर ही मध्यस्थता की जा सकती है
-भारत ने मध्यस्थता से इनकार कर चुका है
-अब कश्मीर मामला आगे नहीं बढ़ाया जा सकता है
-इमरान खान के अमेरिका दौरे के वक्त ट्रंप ने मध्यस्थता की बात कही थी
-ट्रंप ने दावा किया था, पीएम मोदी ने इस मामले पर मध्यस्थती की बात कही थी
-ट्रंप ने कहा था,ओसाका (जापान) में जी-20 शिखर सम्मेलन मे पीएम मोदी के साथ था
-हमने इस विषय (कश्मीर) के बारे में बात की
-उन्होंने वास्तव में कहा, ‘क्या आप मध्यस्थता करना चाहेंगे?
-मैंने कहा, ‘कहां?’ (मोदी ने कहा) ‘कश्मीर
-अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, अगर मैं मदद कर सकता हूं, तो मैं ये करना पसंद करूंगा
-अगर मैं मदद के लिए कुछ भी कर सकता हूं, तो मुझे बताएं
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here