दशहरा से लेकर छठ पूजा 2019, जाने अक्टूबर में पड़ने वाले सभी त्योहारों का शुभ मुहूर्त

0
50
भारत को देवभूमि और त्योहारों से दुनियाभर में पहचाना जाता है। विश्व के हर कोने में मौजूद भारतवासी अपने त्योहारों को बड़े उत्साह से मनाते हैं और इनके इस जलसे में शामिल होते हैं उस देश के लोग भी जहां हमारे देशवासी निवास करते हैं। अभी पूरे देश में नवरात्रि का त्यौहार हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जा रहा है। नवरात्रि के बाद लगभग एक माह तक पूरे देश में त्योहारों की धूम होगी तो त्योहार कब होंगे और शुभ मुहूर्त क्या होगा इसकी भी जानकारी होना बेहद जरुरी है। शुभ मुहूर्त में पूजन करने का फल अत्यन्त सुखदायी होता है। आइए जानते हैं अक्टूबर माह में पड़ने वाले पर्व और उनका शुभ मुहूर्त…
नवरात्रि समापन और दुर्गा विसर्जन
नवरात्रि का समापन दुर्गा विसर्जन के साथ ही होता है। दुर्गा विसर्जन के साथ ही विजयादसमी तिथि लगनी शुरु होती है। इसलिए जब विजयादशमी तिथि लग रही हो तभी दुर्गा विसर्जन करना सर्वथा उचित होता है। ज्योतिषशास्त्र के मतानुसार य्दि श्रवण नक्षत्र और दशमी तिथि अपराह्न काल में एक साथ लगती हो तो यह समय दुर्गा विसर्जन के लिए सबसे उचित माना जाता है।
बतादें इस वर्ष दुर्गा विसर्जन 8 अक्टूबर मंगलवार को है, विसर्जन का शुभ मुहूर्त 6:17:33 से 08:37:59 तक रहेगा। यानि ये दो घंटे दुर्गा विसर्जन के लिए उत्तम है।
दशहरा
असत्य पर सत्य पर विजय का यह पर्व अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी को मनाया जाता है। इसी दिन भगवान राम ने अहंकारी रावण का वध कर असत्य पर सत्य की विजय प्राप्त की थी, इसे विजयदशमी भी कहा जाता है। दशमी तिथि को अपराह्न काल में सूर्योदय के बाद दसवें मुहूर्त से लेकर बारहवें मुहूर्त तक दशहरा मनाने की परंपरा है।
इस वर्ष दशहरा या विजयादशमी का त्योहार 8 अक्टूबर मंगलवार को मनाया जाएगा, दशहरा मनाने का शुभ मुहुर्त दिन में 14:05:40 से 14:52:29 तक समय 46 मिनट, अपराह्न मुहूर्त दिन में 13:18:52 से 15:39:18 तक समय 2 घंटे 18 मिनट तक।
महिलाओं का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार ‘करवा चौथ’
पति के दीर्घआयु की कामना के लिए भारत की हर महिलाओं के लिए करवा चौथ का व्रत बेहद महत्वपूर्ण होता है। महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण इस त्योहार में शिव, पार्वती, कार्तिकेय, गणेश के साथ ही चंद्रमा की पूजा की जाती है। इस दिन सुहागिन स्त्रियां अपने पूरे हार- श्रींगार के साथ पूजन करती हैं। यह निर्जला व्रत होता है और चंद्र को अर्घ्य देने के बाद पति जल पिलाकर पत्नी के व्रत को तोड़ता है। कहीं-कहीं पर पति भी पत्नी से साथ ही व्रत रखते हैं।
इस साल करवा चौथ गुरुवार 17 अक्टूबर 2019 को पड़ेगा, करवा चौथ पूजन का शुभ मुहूर्त 17:50:03 से 18:58:47 तक करवा चौथ चंद्रोदय का समय 20:15:59 रहेगा।
धनतेरस
धनतेरस का पर्व कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है। इस त्योहार को धन त्रयोदशी और धन्वंतरि जंयती के नाम से भी जाना जाता है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन धन्वंतरि देव समुद्र मंथन से अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। धन्वंतरि देव जब समुद्र मंथन से प्रकट हुए थे तो उस समय उनके हाथ में अमृत कलश था। इसी वजह से धनतेरस के दिन बर्तन खरीदने की परंपरा है। धनतेरस के त्योहार से ही दीपावली की शुरुआत होती है।
इस साल धनतेरस का पर्व 25 अक्टूबर शुक्रवार को मनाया जाएगा। शुभ मुहूर्त शाम 19:10:19 से 20:15:35 तक समय 1 घंटे 5 मिनट पर होगा। प्रदोष काल 17:42:20 से 20:15:35 तक वृषभ काल 18:51:57 से 20:47:47 तक रहेगा।
दीपावली, लक्ष्मी पूजन
अंधकार पर विजय का प्रतीक दीपावली का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। ऐसी मान्यता है कि दीपों से सजी इस रात में लक्ष्मीजी भ्रमण के लिए निकलती हैं और अपने भक्तों को खुशियां बांटती हैं। इस वर्ष 27 अक्टूबर रविवार के दिन दीपावली और लक्ष्मी पूजा का पर्व मनाया जाएगा।
लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त रात में 18:44:04 से 20:14:27 तक, प्रदोष काल 17:40:34 से 20:14:27 तक, वृषभ काल 18:44:04 से 20:39:54 तक। दीपावली महानिशीथ काल मुहूर्त- लक्ष्मी पूजा मुहूर्त- 23:39:37 से 24:30:54 तक
महानिशीथ काल 23:39:37 से 24:30:54 तक सिंह काल 25:15:33 से 27:33:12 तक।
दिवाली शुभ चौघड़िया मुहूर्त- अपराह्न मुहूर्त्त (शुभ) 13:28:49 से 14:52:44 तक सायंकाल मुहूर्त्त (शुभ, अमृत, चल)
17:40:34 से 22:29:05 तक। रात्रि मुहूर्त्त (लाभ) 25:41:26 से 27:17:36 तक। उषाकाल मुहूर्त्त (शुभ) 28:53:46 से 30:29:57 तक।
उत्तर भारत सबसे बड़ा त्योहार ‘छठ पूजा’
अपने बच्चों के दीर्घायु की कामना को लेकर माताएं इस त्योहार को बड़े ही उत्साह के साथ मनाती हैं। छठ का त्योहार कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी को मनाया जाता है। यह दीवावली के 6 दिन बात मनाया जाता है। उत्तर भारत के राज्य बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है। छठ पूजा में सूर्य देव और छठी मैया की पूजा व उन्हें अर्घ्य देने का विधान है। छठ पूजा चार दिनों तक चलने वाला लोकपर्व है।
कब है छठ पूजा- छठ पर्व इस वर्ष 2 नवंबर शनिवार के दिन है। छठ पूजा शुभ मुहूर्त – 2 नवंबर (संध्या अर्घ्य) सूर्यास्त का समय : 17:35:42 3 नवंबर (उषा अर्घ्य) सूर्योदय का समय- 06:34:11
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here