जम्मू-कश्मीर के हालात जानने भारत पहुंचा EU का 30 सदस्यीय दल, पीएम मोदी से की मुलाकात

0
23
जम्मू-कश्मीर से 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 के अधिकांश प्रावधानों को हटाते हुए विशेष राज्य के दर्जे को समाप्त कर दिया गया। इसी के साथ कानून व्यवस्था का बहाली तक तमाम तरह के प्रतिबंधों को लगाया गया। हालांकि अब वहां से अधिकांश प्रतिबंधो को फिलहाल हटा लिया गया है। ताजे हालात को जानने के लिए यूपोरियन संघ की 30 सदस्यीय टीम कश्मीर दौरे के लिए भारत आई है। EU का दल डल झील में शिकारा मालिकों से मिलेगा तथा स्थानीय लोगों से हालात के बारे में चर्चा भी करेगा।
इससे पहले EU के सदस्य सोमवार को पीएम मोदी और एनएसए अजीत डोभाल से मुलाकात की। इस दौरान पीएम मोदी ने EU के सदस्यों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा,आतंकवादियों का समर्थन या ऐसा गतिविधियाों और संगठनों का समर्थन करने वालों के खिलाफ तत्काल प्रभावी कार्रवाई करने की जरुरत है। उन्होने कहा आतंकवाद के लिए जीरो टॉलरेंस की जरुरत है।
पीएम ने कहा कि ‘निष्पक्ष और संतुलित द्विपक्षीय व्यापार और निवेश समझौते (BTIA) का जल्द समापन मेरी सरकार की प्राथमिकता है। पीएम ने उम्मीद जताई कि यूरोपीय संघ के सदस्यों का जम्मू-कश्मीर सहित भारत का ये दौरा उपयोगी साबित है। पीएम ने कहा कि क्षेत्र के विकास और शासन की प्राथमिकताओं का एक स्पष्ट दृष्टिकोण देने के अलावा इस दौरे से प्रतिनिधिमंडल को क्षेत्र की सांस्कृतिक और धार्मिक विविधता की बेहतर समझ मिलेगी।
पीएम मोदी के संबोधन के बाद एनएसए अजीत डोभाल ने EU संघ के सदस्यों को जम्मू-कश्मीर के हालात को लेकर जानकारी दी।
EU के सदस्यों के दौरे को लेकर जम्मू-कश्मीर की पू्र्व सीएम महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा है कि उम्मीद है कि उन्हें आम लोगों स्थानीय मीडिया, डॉक्टर्स और सिविल सोसाइटी के लोगों से वार्ता का मौका मिलेगा। दुनिया जानेगी कि कश्मीर में आखिर चल क्या रहा है। भारत सरकार को जम्मू-कश्मीर में जारी इस उथल पुथल और अशांति के लिए जिम्मेदार ठहराया जाएगा।
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here