महात्मा गांधी की 150वीं जयंतीः मोदी ने कहा, हर समस्या के समाधान के लिए गांधी थे और रहेंगे

0
37
‘देदी हमें आजादी बिना खड्ग बिना ढाल, साबरमती से संत तूने कर दिया कमाल’। 2 अक्टूबर 1869 को जन्मे मोहन दास ने वाकई कमाल कर दिया। अहिंसक विरोध का उनका प्रयोग आज पूरी दुनिया में प्रासंगिक है। महात्मा गांधी ने लोगों को हमेशा स्वावलंबन के लिए प्रेरित किया, लोकतंत्र की अलग विचारधारा के पोषक रहे महात्मा गांधी का मानना था कि आपको सरकार के भरोसे का नहीं खुद पर भरोसा करना चाहिए, उनके सात सिद्धान्त आज के नए भारत को दिशा दे रहे हैं। आज (बुधवार 2 अक्टूबर 2019) को महात्मां गांधी की 150वीं जयंती है। महात्मा गांधी के सम्मान में पूरे विश्व में कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं, पीएम मोदी भी तय कार्यक्रम के अनुसार गुजरात के अहमदाबाद पहुंचे जहां उन्होंने बापू के प्रतिमा के सामने माथा टेका और लोगों को संबोधित किया।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी महात्मा गांधी के 150वीं जयंती पर नई दिल्ली स्थित राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की इसके बाद वह आहमदाबाद में बापू के आश्रम साबरमती पहुंचे जहां वह महात्मा गांधी की मूर्ति के सामने माथा टेका और उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित किया। उन्होंने कहा उनका गुजरात आना हमेशा गौरवान्वित करता है। यहां के लोग मुझे हमेशा संबल देते हैं जिससे मैं देश की सेवा कर पा रहा हूं। पीएम मोदी ने कहा, जितना हम ताकत बढ़ाएंगे, उतना सम्मान मिलेगा। आपके बीच आना, अपनापन मिला, आभार व्यक्त करता हूं। गुजरात की धरती है। यहां से बापू को नमन करने का मौका मिला।
साबरमति आश्रम में पीएम मोदी ने विजिटर रजिस्टर पर स्वच्छ भारत अभियान और खुले से शौच से मुक्त भारत के बारे में लिखा, साबरमती आश्रम में विजिटर बुक में पीएम का संदेश- मैं संतुष्ट हूं कि गांधी जयंती के अवसर पर, हम उनके ‘स्वच्छ भारत’ के सपने को पूरा करने के साक्षी बन रहे हैं। मैं भाग्यशाली महसूस करता हूं कि इस अवसर पर जब भारत ने खुले में शौच से मुक्त हो गया है, मैं आश्रम में हूं।
अहमदाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने अपने संबोधन के दौरान महात्मा गांधी के प्रिय भजन ‘वैष्णव जन’ की काफी तारीफ की। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा आप लोग जानते हैं कि आज भारत की प्रतिष्ठा पूरे विश्व में बढ़ रही है। भारत की स्वीकृति सम्मान सहज अनुभव आता है।
2014 में जीतने के बाद पहली बार जब यूएन में गया था, तब इंटरनेशनल योगा डे के लिए अपील की थी। तो सबसे ज्यादा समर्थन योगा डे को मिला। कम से कम समय में ज्यादा समर्थन बहुत बड़ी घटना थी। 2019 में जीतने के बाद यूएन गया तो लग रहा था कि दुनिया का हर देश भारत को स्वीकर कर चुका है। आशा है कि विश्व में परिवर्तन की सबसे बड़ी जिम्मेदारी हिंदुस्तान की होगी। भारत विश्व को साथ लेकर चलने का समार्थ्य रखता है।
महात्मा गांधी के प्रिय भजन ‘वैष्णव जन’ के बारे में पीएम मोदी ने कहा, “वैष्णव जन को तेरेजन कहिए, ये गाएं, 150 से अधिक देशों ने गाया। हर दिन बापू का भजन देखते होंगे दूरदर्शन पर। मैं गया तो लोगों ने इस बार बिना हाथ में कागज लिए गाया। कलाकारों ने कहा कि गाने से पहले समझने का प्रयास किया। पूरी दुनिया ने गांधी जी को श्रदांजलि दी है, ऐसा पहली बार हुआ है। गांधी आज हैं और कल भी होंगे, हर समस्या के समाधान के लिए गांधी होंगे। यूएन ने गांधी को श्रदांजलि दी है।
प्रधानमंत्री ने अपने यूएन दौरे की बात करते हुए कहा, यूएन में एनवायरमेंट हेल्थ केयर पर चर्चा होती है। इस यात्रा के दौरान अलग-अलग विषयों पर सेमिनार किया गया। आतंकवाद पर सेमिनार था। जार्डन के किंग ने इस कार्यक्रम को होस्ट किया। इस दौरान जार्डन के किंग ने आतंकवाद पर उसी बात को दोहराया जिसका जिक्र मैं हमेशा किया करता हूं। भारत जैसे देश के लिए यह गौरव की बात है।
पीएम मोदी ने कहा, हाउडी मोदी कार्यक्रम के बारे में दुनिया के हर नेता को पता था, आज भारतीय पासपोर्ट की दुनिया में ताकत बढ़ी है। दुनिया अब भारतीयों को सम्मान की नजर से देखती है। भारत के बदलाव ने भारतीयों का हौसला बुलंद किया है। हाउडी मोदी प्रोग्राम को लेकर सभी का धन्यवाद करता हूं। मेयर, रिपब्लिक हो या डेमोक्रेटिक दोनों दलों के नेताओं का भाषण हुआ। राष्ट्रपति ट्रंप का आना, इतने लंबे समय तक रुकना, सबके लिए प्रसन्नता का विषय है। धन्यवाद देता हूं।
-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के अवसर पर 150 रुपये के सिक्के जारी किए।
-अहमदाबाद में ‘स्वच्छ भारत दिवस’ कार्यक्रम में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी: आज ग्रामीण भारत और उसके गांवों ने खुद को ‘खुले में शौच मुक्त’ घोषित किया है।
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here