आरएसआस प्रमुख ने कहा, भारत हिंदू राष्ट्र है, यह एक अटल सत्य है

0
30
भारत हिंदू राष्ट्र है, ये एक सत्य है, इसे कोई बदल नहीं सकता है, इसे हमने नहीं बनाया, ये तो सदा से चलता आया है। जब तक यहां एक भी हिंदू है, ये हिंदू राष्ट्र है। बाकी सब काल खंड और परिस्थितियों के हिसाब से बदल सकता है। ये बातें आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने द आरएसएसः रोडमैप्स फॉर 21 सेंचुरी किताब के विमोचन के अवसर पर कहीं।
‘संघ पुस्तक से बंधा नहीं है लेकिन पुस्तकें दिशा तो दिखाती हैं
आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि यह किताब समाज को संघ दिखाएगी और संघ में चर्चा का विषय भी होगी। उन्होंने कहा, ‘संघ पुस्तक से बंधा नहीं है लेकिन पुस्तकें दिशा तो दिखाती हैं। आरएसएस प्रमुख ने ‘द आरएसएस: रोडमैप्स फॉर 21 सेंचुरी’ किताब को संघ के बारे में गलतफहमी को दूर करने वाली किताब भी बताया। उन्होंने कहा कि इस किताब को पढ़ने से आपको संघ के बारे में गलतफहमी नहीं होगी।
एबीवीपी के सुनील आंबेडकर ने लिखी किताब
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्‍ट्रीय संगठन मंत्री सुनील आंबेकर ने राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के काम करने के तौर-तरीकों को लेकर एक किताब ‘द आरएसएस रोडमैप्‍स 21 सेंचुरी’ लिखी है। मोहन भागवत इसी किताब के विमोचन के मौके पर बोल रहे थे। सुनील आंबेडकर ने अपनी इस किताब में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के काम करने से तरीके से लेकर इसकी विचारधारा के बारे में लिखा है। सुनील आंबेकर का मानना है कि संघ 94 साल से समाज को मजबूत कर रहा है। संघ का विरोध करने से पहले इस संगठन को समझना बेहद जरूरी है।
यहां अनेक मत होने के बावजूद मनभेद नहीं होता
मोहन भागवत ने कहा, ‘जो सब लोगों को जोड़कर रख सकता है। जो कहे हम हिंदू नहीं हैं, आप जो भी हैं, हमारे हैं, ये मानकर कि पूरा समाज समृद्ध बने, ये संघ है।’ उन्होंने कहा, ‘विचारों की सवंतरता संघ में मान्य है। यहां अनेक मत होने के बाद भी मनभेद नहीं होता है।
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here